राम मंदिर भूमिपूजन के बाद सोशल मीडिया पर डाली आपत्तिजनक पोस्ट, चार गिरफ्तार

अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन का कार्यक्रम बुधवार को संपन्न हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्माण से पहले भूमि पूजन किया। लंबे संघर्ष और इंतजार के बाद आए इस शुभ अवसर के दिन देश- दुनिया के लोगों ने दीपावली मनाई। अयोध्या राम मंदिर भूमिपूजन के बाद जहां एक तरफ देश में दीवाली मनाई जा रही थी। वहीं शिलान्यास के बाद उत्तर प्रदेश में धार्मिक उन्माद फैलाने के मामले सामने आ रहे हैं। कुछ लोग धार्मिक उन्माद फैलाने वाली पोस्ट सोशल मीडिया पर सर्कुलेट कर रहे है।

शुक्रवार को इसी सिलसिले में पुलिस ने पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के मीडिया प्रभारी अब्दुल मजीद को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने मजीद को काकोरी थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया। मजीद इस्लामनगर इलाके में एक किराए के मकान में रह रहा था। मूलत: दिल्ली के रहने वाले मजीद पर आरोप है कि राम मंदिर भूमिपूजन के बाद इसने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट डाली थी। इसी आधार पर पुलिस ने उसे धर दबोचा। पुलिस अब प्रदेश भर में पीएफआई और एसडीपीआई के सदस्यों पर नजर रख रही है।

इससे पहले भी पुलिस ने बहराइच के जरवल क्षेत्र से एक डॉक्टर व उसके दो अन्य साथियों को सोशल मीडिया पर कथित रूप से भड़काऊ संदेश वायरल करने के आरोप पकड़ा था। इनमें से भी एक सदस्य PFI और एक SDPI का था। अपर पुलिस अधीक्षक कुंवर ज्ञानन्जय सिंह ने शुक्रवार को बताया, “बीते बुधवार को जरवल थाने की पुलिस को सूचना मिली थी कि कस्बे में हीरा मस्जिद के बगल में डॉक्टर अलीम के क्लीनिक पर कुछ लोग बैठकर मोबाइल द्वारा साम्प्रदायिक सद्भाव व राष्ट्रीय अखंडता के विरुद्ध संदेशों का सोशल मीडिया के जरिए प्रचार कर रहे हैं। पुलिस ने बताया कि जांच में आरोपियों के मोबाइल में भड़काऊ संदेश मिले है। जिसके बाद तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

बता दें, कि राम जन्मभूमि पूजन से पहले पुलिस अधीक्षक विपिन मिश्र ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वालों को चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा था कि सोशल मीडिया पर व्यक्ति, जाति, वर्ग, धर्म व समुदाय से संबंधित अमर्यादित, अभद्र व भड़काऊ टिप्पणियों पर कठोर विधिक कार्यवाही की जाएगी।

Related Articles