चुनाव आयोग बोला: 14 जुलाई को होगा प्रणब मुखर्जी के उत्तराधिकारी का चुनाव

0

नई दिल्‍ली। देश में राष्‍ट्रपति चुनाव का बिगुल बज गया है। चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति चुनाव की डेट का ऐलान कर दिया है। आयोग ने कहा कि 14 जून को चुनाव का नोटिफिकेशन जारी होगा। डेट के ऐलान के बाद सरगर्मी तेज हो गई है।

राष्ट्रपति चुनाव की डेट का ऐलान होने से तैयारियां तेज

चुनाव आयोग ने प्रेस कॉफ्रेंस करके डेट का ऐलान किया। आयोग ने कहा कि 28 जून का नामांकन की आखिरी तारीख है। नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 1 जुलाई है। वहीं चुनाव आयोग के अध्यक्ष नसीम जैदी ने बताया कि 17 जुलाई सोमवार को राष्ट्रपति पद के लिए वोट डाले जाएंगे। 20 जुलाई को मतगणना होगी।

राष्ट्रपति चुनाव की डेट का ऐलान पर डालें एक नजर

चुनाव आयोग के द्वारा 14 जून को बुधवार के दिन चुनाव का नोटिफिकेशन जारी होगा

नामांकन भरने की अंतिम तारीख 28 जून है।

जांच के लिए 29 जून की डेट तय की गई है।

नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 1 जुलाई होगी।

17 जुलाई को राष्‍ट्रपति पद के लिए वोट पड़ेंगे।

20 जुलाई को मतगणना होगी।

राष्ट्रपति चुनाव के लिए संसद भवन में वोट पड़ेंगे।

राज्य प्रतिनिधि अपने राज्यों और सांसद दिल्ली में करेंगे वोट।

नसीम जैदी ने किए विशेष ऐलान

जैदी ने यह भी बताया कि कमीशन ने यह तय किया है कि इस बार चुनाव प्रक्रिया में भाग लेने वालों को विशेष पेन दिया जाएगा। जमानत राशि 15 हजार है जो नामांकन के साथ ही जमा करना होगा।

सीक्रेट बैलेट से होगा चुनाव

निर्वाचकों से अपेक्षा है कि वे अपने मत को गोपनीय रखेंगे। किसी को भी खुला वोट डालने का अधिकार नहीं है। किसी को भी अपना बैलेट पेपर दिखाना मना है। ऐसा करने पर वोट रद्द हो सकता है।

नहीं जारी होगी कोई व्हिप

जैदी ने बताया कि कोई भी राजनीतिक दल राष्ट्रपति निर्वाचन के मद्देनजर अपने सदस्यों के लिए कोई भी व्हिप जारी नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों पर अगर भ्रष्टाचार या अपराध के आरोप मिलते हैं तो उनका चुनाव रद्द हो सकता है।

जुलाई में खत्म होगा कार्यकाल

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई 2017 को समाप्त हो रहा है। अगले महीने देश के 14वें राष्ट्रपति को चुना जाएगा। विपक्षी दलों में अब तक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर आम सहमति नहीं बन पाई है, जबकि सरकार भी अपनी पार्टी और सहयोगी दलों के साथ राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर आम सहमति बनने में जुटी है।

इलेक्टोरल कॉलेज से होता है राष्ट्रपति का मतदान

भारत के राष्ट्रपति निर्वाचन कॉलेज द्वारा चुने जाते हैं। संविधान के आर्टिकल 54 में इसका उल्लेख है। इसमें संसद के दोनों सदनों तथा राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य शामिल होते हैं। दो केंद्र शासित प्रदेशों, दिल्ली और पुद्दुचेरी, के विधायक भी चुनाव में हिस्सा लेते हैं जिनकी अपनी विधानसभाएं हैं।

loading...
शेयर करें