पेट के कीड़े मारने की गोलियां खाने के बाद 52 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

0

खटीमा (ऊधमसिंहनगर)। राष्ट्रीय कृमि दिवस पर पेट के कीड़े मारने की गोलियां एल्बेंडाजॉल खाने से 52 बच्चों की तबीयत खराब हो गयी। सांसद आदर्श गांव के बग्गा चौवन स्थित राजकीय इंटर कॉलेज में ये घटना हुई। चक्कर आने और पेट दर्द की शिकायत पर इन छात्राओं को अस्पताल में भर्ती कराया गया। चिकित्सकों के मुताबिक इनमें से पांच की हालत गंभीर है। बाकी सभी खतरे से बाहर हैं, लेकिन अभी उन्हें अस्पताल से छुट्टी नहीं दी गई है। चिकित्सकों ने यह भी कहा कि उन्हीं बच्चों की तबीयत बिगड़ी, जो नाश्ता करके नहीं आए थे। राष्ट्रीय कृमि दिवस पर क्षेत्र के सभी सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को पेट के कीड़े मारने की दवा खिलाई गई थी। इसके तहत सुदूरवर्ती आदर्श सांसद गांव बग्गा चौवन के राजकीय इंटर कालेज में भी 362 बच्चों को एल्बेंडाजॉल की दवाई खिलाई गयी।

ये भी पढ़ें – रावत सरकार का डॉक्टर्स को तोहफा, हड़ताल हुई वापस
राष्ट्रीय कृमि दिवस 4
फाइल

राष्ट्रीय कृमि दिवस पर हुई घटना से हड़कंप

प्रधानाचार्य सीताराम कछारी के मुताबिक बच्चों को स्कूल टाइम में क्लास टीचर के माध्यम से दवाई दी गई थी। इसके बाद दो बच्चों ने दवाई खाकर चक्कर आने की बात कही थी। हालांकि कुछ ही देर बाद वह ठीक भी हो गए थे। इसी दौरान एक छात्रा की हालत ज्यादा खराब होने पर उसे न्यूरिया के अस्पताल भेजा गया। शाम को बच्चे जैसे ही घर पहुंचे वे बीमार पड़ना शुरु हो गए। बच्चों ने चक्कर और पेट दर्द होने की शिकायत अपने परिजनों से की। जिसके बाद परिजन उन्हें आनन-फानन में एंबुलेंस की मदद से सरकारी अस्पताल लेकर पहुंचे। एक साथ इतने बच्चों को आया देखकर स्वास्थ्य विभाग में भी हड़कंप मच गया।

ये भी पढ़ें – दवा संकट पर भाजपा का रावत सरकार के खिलाफ हल्ला बोल

राष्ट्रीय कृमि दिवस 5

बच्चों की हालत खतरे से बाहर 

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) डॉ.सुनीता रतूड़ी ने पीड़ित सभी बच्चों को अस्पताल में फौरन भर्ती कराने के साथ ही उनका प्राथमिक उपचार भी शुरू कर दिया। दवा के सेवन से बीमार होने वाले सभी कक्षा आठ से बारह तक की छात्र-छात्राएं है।सीएमएस डॉ.रतूड़ी का कहना है कि बच्चों ने चक्कर आने की बात कही है और उन्हें प्राथमिक उपचार भी दे दिया गया है। इस बीच घटना की जानकारी मिलते ही एसडीएम ऋचा सिंह और विधायक डॉ.प्रेम सिंह राणा भी अस्पताल पहुंचे और उन्होंने सभी बच्चों का हालचाल जाना। एसडीएम ऋचा सिंह ने बताया कि स्कूल में वितरित की गई दवाई की जांच की जाएगी। इसके लिए स्कूल से दवाई मंगा भी ली गई है। मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

loading...
शेयर करें