आंध्र प्रदेश में राहुल गांधी की रैली आज, भाजपा और तेदेपा पर साध सकते हैं निशाना

0

विजयवाड़ा| कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी रविवार को आंध्र प्रदेश का दौरा करेंगे और प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर गुंटुर में एक रैली को संबोधित करेंगे।राहुल गांधी ने इस सप्ताह की शुरुआत में तेलंगाना का दौरा किया था। इस रैली में राहुल गांधी वादा करेंगे कि साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में अगर कांग्रेस सत्ता में आई, तो वह आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करेंगे।

राहुल गांधी

राहुल गांधी आंध्र प्रदेश से भाजपा और तेदेपा को बना सकते हैं निशाना

रैली के दौरान राहुल गांधी आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के वादे से पीछे हटने को लेकर तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा)-भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन सरकार पर निशाना साध सकते हैं।

राज्य कांग्रेस प्रमुख रघुवीरा रेड्डी ने कहा कि जनता दल (युनाइटेड) के नेता शरद यादव, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के राष्ट्रीय सचिव एस.सुधाकर रेड्डी तथा समाजवादी पार्टी (सपा) नेता तथा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव रैली को संबोधित करेंगे।

कांग्रेस ने वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रमुख वाई.एस.जगमोहन रेड्डी तथा अभिनेता सह नेता पवन कल्याण को भी रैली में आमंत्रित किया है। राहुल गांधी ने साल 2015 में राज्य का दौरा किया था, लेकिन तब वह केवल अनंतपुर में एक ‘पदयात्रा’ तक ही सीमित था, जिसमें उन्होंने किसानों तथा महिलाओं की समस्या पर प्रकाश डाला था।

संसद में आंध्र प्रदेश पुनर्गठन विधेयक पर चर्चा के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पांच साल के लिए आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा किया था। साल 2014 में हुए चुनाव के दौरान भाजपा तथा तेदेपा दोनों ने ही राज्य को 10 वर्षो के लिए विशेष दर्जा देने का वादा किया था।

बाद में भाजपा नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने 14वें वित्त आयोग की रिपोर्ट का हवाला देते हुए आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से इनकार कर दिया। रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्वोत्तर तथा पहाड़ी राज्यों के अलावा किसी अन्य राज्य को विशेष दर्जा नहीं दिया जाना चाहिए।

केंद्र सरकार ने पिछले साल आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा के बदले विशेष पैकेज देने की घोषणा की थी। इसके बाद से ही भाजपा-तेदेपा गठबंधन को विपक्ष तथा अन्य संगठनों की आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

loading...
शेयर करें