राहुल गांधी पर देशद्रोह का डबल केस, केजरीवाल भी फंसे

0

लखनऊ। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) विवाद में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लखनऊ जिला अदालत में मुकदमा दर्ज कराया गया है। लखनऊ खंड के जिला अदालत में बुधवार को अधिवक्ता प्रमोद पांडे ने एक अर्जी दाखिल की है। प्रमोद पांडे ने अपनी इस अर्जी में राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल पर देशद्रोह की रिपोर्ट दाखिल करने की बात कही है।

राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल

राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल पर आफत

जिला अदालत ने इस मामले में 27 फरवरी को सुनवाई करने के आदेश दिए हैं। प्रमोद पांडे ने अपनी अर्जी में लिखा है कि 10 फरवरी 2016 को जेएनयू के कुछ छात्रों ने देशद्रोही नारे लगाए थे। इन छात्रों ने अफजल गुरु के समर्थन में भी नारे लगाए थे।

जेएनयू के छात्रों की इस हरकत का राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल ने समर्थन किया था। इस मामले में राहुल गांधी ने कहा था कि सभी को देश में अपनी अभिव्यक्ति की आजादी है। अर्जी में लिखा गया है कि राहुल गांधी का ये बयान भी अपने आप में देशद्रोह है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी जेएनयू के छात्रों का समर्थन किया। वो भी देशद्रोह है। इस मामले में जिला कोर्ट 27 फरवरी को सुनवाई करेगा।

इससे पहले आज सुबह इलाहाबाद में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ  सीजेएम कोर्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। इस याचिका में राहुल पर जेएनयू में देशविरोधी नारे लगाने के आरोपियों का समर्थन करने का आरोप लगाया गया है।

क्या है जेएनयू विवाद

9 फरवरी के दिन जेएनयू में वामपंथी और दलित संगठनों से जुड़े छात्रों ने संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु की बरसी मनाई। इसमें कश्मीर के छात्र भी शामिल थे। इसके लिए कैंपस में एक सांस्कृतिक संध्या का आयोजन भी किया गया इस दौरान देश विरोधी नारे भी लगाए गए। आरोप है कि विरोध करने पर इन लोगों ने एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की पिटाई भी की।

जेएनयू प्रशासन इस बात की जांच शुरू कर चुका है कि आखिर इजाजत नहीं मिलने के बाद भी कैंपस में अफजल गुरु की बरसी का कार्यक्रम कैसे आयोजित हुआ। वैसे ये पहला मौका नहीं है जब देश की इस नामी यूनिवर्सिटी में इस तरह की देश विरोधी हरकत हुई है। अफजल गुरु की फांसी के वक्त भी यहां विरोध प्रदर्शन देखने को मिले थे।

loading...
शेयर करें