रिपोर्ट : तंबाकू से बढ़े सबसे ज्यादा कैंसर के मरीज

0

नई दिल्ली। आज विश्व कैंसर दिवस है लेकिन केंद्र सरकार इससे पहले ही लोगों को कैंसर से बचाने के लिए बड़ी काम शुरू कर दिया है। इस बीमारी को रोकने के लिए नया विधेयक लाया जाएगा, इसके लिए सरकार ने नोटिस जारी कर दिया है। छोटे-छोटे शहरों में भी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर लोगों की नि:शुल्क जांच सुविधा होगी। एक रिपोर्ट में सामने आया है कि देश में सबसे ज्यादा कैंसर के मरीज तंबाकू का सेवन करने से बढ़े हैं।

विश्व कैंसर दिवस

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के तंबाकू नियंत्रण विभाग ने वर्ष 2015 में संशोधित सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा) को वापस ले लिया है। नए कानून में इंसानों का डीएनए तक बदल देने वाली ई-सिगरेट को भी शामिल किया गया है। सूत्रों की मानें तो इस कानून के लागू होने के बाद भारत में ई-सिगरेट और उससे जुड़े उत्पादों पर पूरी तरह से रोक लगेगी।

देश में तंबाकू उत्पादों के बढ़ते चलन को रोकने के लिए 2015 में सरकार ने पुराने कानून में संशोधन कर नया कानून लागू किया था। इससे देश में तंबाकू उत्पादों का प्रचार प्रसार पूरी तरह से प्रतिबंधित हो गया। लेकिन इसी दौरान चीन और जापान जैसे देशों से भारी मात्रा में ई-सिगरेट का व्यापार शुरू हुआ जिसे रोकने के लिए सरकार के पास अब तक कोई कानून नहीं है।

हाल ही में न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी ऑफ स्कूल मेडिसिन के रिसर्च में सामने आया था कि शहरों में ई-सिगरेट का चलन बढ़ा है। लोगों को लगता है कि इसके सेवन से निकोटिन शरीर में नहीं जाएगा जबकि ई-सिगरेट निकोटिन से भी ज्यादा घातक होता है। ई-सिगरेट के सेवन से कैंसर को पैदा करने वाले तत्व कार्सिनोजेन्स ज्यादा मात्रा में शरीर में पहुंचते हैं।

loading...
शेयर करें