जानिये यूपी में क्यों बढ़ रहे हैं रेप के मामले

0

लखनऊ। यूपी के रेप, गैंगरेप और छेड़खानी के चर्चे केवल लोकसभा और राज्यसभा में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हो रहे हैं। यूपी में हर रोज तकरीबन दस से अधिक रेप केस के मामले दर्ज होते है। इन घटनाओं के जिम्मेदार काफी हद तक रेप के वीडियो भी हैं। जिन्हें यूपी में मात्र 50 रुपये में धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। यूपी पुलिस इन रेप जैसी गंभीर घटनाओं को रोकने में नाकाम है। प्रदेश में इन दिनों पोर्न को छोड़कर रेप के वीडियो की मांग काफी बढ़ गई है। रेप के वीडियो आसानी से मिलने के कारण इन घटनाओं में बढ़ोत्तरी हो रही है। 50 से 150 तक के बिकने वाले ऐसे वीडियो कुल 30 सेकेण्ड से पांच मिनट तक के होते है।

 रेप के वीडियो रेप के वीडियो का खुला व्यापार

राजधानी लखनऊ के नाका हिंडोला क्षेत्र के साथ ही कानपुर के माल रोड व नवीन मार्केट तथा आगरा के कासगंज में बाजार काफी बड़ा है। डीलर्स पहले वीडियो को डाउनलोड करते हैं। बाद में उन्हें सीधे स्मार्टफोन या पेनड्राइव में लोगों को बेच देते हैं। कुछ लोग ऐसे वीडियो डाउनलोड करने के लिए ट्वीटर, टंबलर और फेसबुक खातों का प्रयोग भी करते हैं।

यूपी में आजकल गैंगरेप तथा रेप के आरोपी के कुकृत्य को वीडियो या फिर मोबाइल फोन से रिकार्ड करने के बाद या तो उनको मार्केट में बेच देते हैं या फिर उनको सोशल मीडिया पर वायरल करते हैं। ऐसे ही वीडियो दुकानों के माध्यम से आसानी से लोगों तक पहुंच रहे हैं।

ब्लैकमेलिंग के लिए बनाए जाते है रेप वीडियो

यूपी पुलिस में साइबर क्राइम के अनुसार अपराधी ऐसे वीडियो को ब्लैकमेलिंग के लिए बनाते हैं। ताकि पीडि़त लोग पुलिस के पास जाकर शिकायत दर्ज न कराएं। बड़ी मात्रा में पुलिस ने इस तरह के वीडियो को बरामद भी किया है।

कासगंज के सोरो इलाके में पुलिस ने छापेमारी कर पोर्न वीडियो चिप डाउनलोड कर बेचने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके पास दो लैपटाप मिले हैं। इनमें कुछ स्थानीय गैंगरेप और रेप का वीडियो भी है। दोनों को फिलहाल जेल भेज दिया गया है।

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार उत्तर प्रदेश में रोज दस से अधिक रेप के मामले दर्ज होते हैं। जो दर्ज नहीं होते हैं, उनकी तो बात ही अलग है। रेप मामले यूपी देश में सबसे आगे है।

loading...
शेयर करें