अब एप बताएगा कैसे बनाएं पहाड़ के स्वादिष्ट व्यंजन

0

देहरादून। रेसिपी ऑफ उत्तराखंड एप की मदद से अब कोई भी व्यक्ति गहत का फाणु, कोदे की बाड़ी, स्यूंटों के पट्वडे, कंडाली के साग और भट्ट की चुलकाणि की रेसिपी घर बैठे जान सकता है। टिहरी गढ़वाल के एक युवा ने रेसिपी ऑफ उत्तराखंड नाम से खास मोबाइल ऐप तैयार किया है। इस ऐप में पहाड़ के 30 से ज्यादा परंपरागत और स्वादिष्ट व्यंजनों को पकाने की विधि दी गयी है। दीपक डिमरी ने रेसिपी ऑफ उत्तराखंड नाम से बनाए गए मोबाइल ऐप में गढ़वाल और कुमाऊं की परंपरागत रेसिपी को शामिल किया है।

डिफेंस कॉलोनी स्थित डीएवी इंटर कॉलेज से स्कूलिंग करने वाले दीपक ने बीटेक किया है और इन दिनों वे बैंग्लुरू में एमबीए की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें पहाड़ के पारंपरिक व्यंजन बहुत अच्छे लगते हैं लेकिन उन्हें इन व्यंजनों को बनाने की विधि नहीं मालूम थी। इसलिए उन्होंने सोचा कि मोबाइल एप से इस समस्या का समाधान हो सकता है और समस्या हल भी हुई।

ये भी पढ़ें – उत्सवी मौज-मस्ती में न लगे सेहत को नजर

रेसिपी ऑफ उत्तराखंड 4

रेसिपी ऑफ उत्तराखंड में 30 से ज्यादा व्यंजन की विधि

दीपक ने कहा कि ऐप में व्यंजनों के लिए जरूरी पदार्थ और उनकी मात्रा के बारे में भी विस्तार से बताया गया है। इसके अलावा उस व्यंजन में दिए गए पोषक तत्वों और स्वास्थ्य को मिलने वाले फायदों की जानकारी भी उपलब्ध कराई गई है। दीपक ने बताया कि दुनिया भर के लोगों को उत्तराखंडी खाद्य पदार्थों, उनके पोषण और स्वाद से परिचित कराने में यह ऐप काफी मददगार साबित होगा। यूजर्स इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से निशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं।

मोबाइल ऐप में इन पकवानों की विधि है मौजूद

ऐप में आलू के गुटके, आलू का झोल, आलू-टमाटर का झोल, अरसा, बादिल, बाल मिठाई, भांग की चटनी, भट्ट की चुलकाणि, चैंसू, डुबुक, गहत का सूप, गहत की गथ्वाणि, गहत की भरवा रोटी, गुलगुला, झंगोरे की खीर, झोली, कापा, कफली, कोदे की रोटी, कुमाऊंनी रायता, लेसू, नाल बड़ी की सब्जी, फाणु, मडुवे की रोटी, रस थिच्वाणी, सिंगौडी, सिंसुंक साग, स्वाला, थिच्वाणी, तिल की चटनी और उड़द की पकोड़ी बनाने की विधि विस्तार से दी गयी है।

ये भी पढ़ें – मुंह में पानी ला दे यह चिकन रान

रेसिपी ऑफ उत्तराखंड 5

बुजुर्गों और महिलाओं ने की रेसिपी में मदद

दीपक ने कहा कि उन्होंने गांव के बड़े-बुजुर्गों से इन सभी व्यंजनों को तैयार करने की विधि सीखी है। बुजुर्ग महिलाओं ने उन्हें पहाड़ में बनने वाले व्यंजनों के स्वाद और पोषण के बारे में भी जानकारी दी। इसके अलावा इंटरनेट की मदद से भी उन्हें कई व्यंजनों को पकाने का मौका मिला। इन सभी जानकारियों को उन्होंने एक सूत्र में पिरोते हुए ऐप में शामिल कर दिया।

loading...
शेयर करें