रोटियों के सहारे चढ़ीं तरक्‍की की सीढि़यां

0

पुणे। आपने तरक्‍की की रोटियां खाई हैं। नहीं खाईं तो प्रणोति नागरकर से मिलिए। पुणे की प्रणोति दुनिया के कई देशों में अपनी पहचान बना चुकी हैं। यह पहचान उन्‍हें रोटियों ने ही दिलाई है।

रोटीमेकर
प्रणोति

rotimaker का कमाल

दरअसल, प्रणोति ने दुनिया का पहला ऑटोम‍ेटिक रोटीमेकर बनाया है। इसका नाम रोटीमेटिक है। इसमें एक साथ 25 रोटियां बनाई जा सकती हैं। इसमें आपका हाथ भी गीला नहीं होगा। आप चाहें तो बैठे-बिठाए भरवा पराठे भी बना सकती हैं।

यंगेस्‍ट उद्यमी का खिताब

प्रणोति की यह तकनीक दुनिया को इतनी पसंद आई कि साल 2014 में उन्‍हें एशिया का यंगेस्ट उद्यमी चुना गया। प्रणोति की इस सफलता के पीछे उनके पति ऋषि इसरानी का भी हाथ है। इसरानी दंपति अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों में हर वर्ष हिस्सा लेते हैं। वे कई जगह मशीन का डेमो दे चुके हैं। ये दोनों बेस्ट आइडिया और बेहतर टेक्नोलॉजी के कई खिताब जीत चुके हैं।

रोटीमेकर

अमेरिका-सिंगापुर में हिट हुई रोटीमेटिक

माइक्रोवेव ओवन जैसी दिखने वाले ऑटोमेटिक रोटीमेकर प्रणोति और ऋषि ने मिलकर तैयार किया है। पिछले साल लांच हुई ‘रोटीमैटिक’ नाम की यह मशीन अमेरिका और सिंगापुर में बेहद पॉपुलर है। प्रणोति फिलहाल सिंगापुर में रह रही हैं और जल्द ही इस मशीन को इंडिया में लांच करने की प्लानिंग में जुटी हैं।

प्री बुकिंग स्‍टाक भी बुक

रोटीमेटिक की लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि प्रणोति की कंपनी Zimplistic Inventions Pvt Ltd पर इसकी प्री बुकिंग चल रही है। हैरत यह भी कि प्री बुकिंग में ही सारा स्‍टॉक बिक गया है। रोटीमेटिक की कीमत 63 हजार रुपए (999 डॉलर) है। कंपनी का दावा है कि यह भारतीय महिलाओं में भी काफी पसंद आएगी।

रोटीमेकर
अपने पति ऋषि के साथ प्रणोति

तरक्‍की के पीछे पति का हाथ

प्रणोति ने सिंगापुर यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। पढ़ाई के बाद कुछ साल उन्होंने नौकरी की। इसकी कमाई से उन्होंने अपनी कंपनी Zimplistic Inventions Pvt Ltd शुरू की। शुरुआत में उन्हें घाटा हुआ। लेकिन बाद में पति ऋषि ने उनका साथ देना शुरू किया। धीरे-धीरे प्रणोति की कंपनी को इन्‍वेस्‍टर मिलने लगे।

भारत से लगाव

प्रणोती ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पुणे से ही पूरी की। इसीलिए उन्‍हें अपने देश से भी गहरा लगाव है। वह साल में एक बार भारत जरूर आती हैं। प्रणोती के पिता एक मैकेनिकल इंजीनियर थे और कुछ साल तक नौकरी करने के बाद उन्होंने अपनी खुद की कंपनी खोली। उनकी मां एक पेंटर हैं और पुणे में अपनी इंटीरियर डिजाइन कंसल्टेंसी चलाती हैं। प्रणोती साल में एक बार पुणे जरुर आती हैं।

रोटीमेकर

ऐसे काम करता है रोटीमेकर

मशीन के ऊपर दी गई जगह में आटा, पानी और तेल डालिए। अपनी पसंद की नरम या कड़क रोटी के मोड को सेट कीजिए। एक फोटो कॉपी मशीन की तरह प्रति मिनट एक रोटी बाहर आएगी। एक बार आटा डालकर 25 रोटियां तक बनाई जा सकती हैं। इसमें सिर्फ रोटियां ही नहीं, पराठा भी बनाने का ऑप्शन है। यूजर चाहें तो मशीन आटे के गोले या कच्ची रोटियां भी बना देगी। इसके अलावा इसमें और भी गई ऑप्शन हैं, जिससे भरवां पराठे भी बनाए जा सकते हैं।

loading...
शेयर करें