लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार थाने के लॉकअप में युवक ने फांसी लगाकर दी जान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार थाने में पुलिस की लापरवाही देखने को मिली है। जब लॉकअप के अन्दर ही 25 वर्षीय उमेश ने फांसी लगाकर जान दे दी। युवक को फंदे पर लटकता देख कर पुलिस परिसर में मौजूद सभी लोगों में हडकंप मच गया। उमेश को फंदे पर लटकता देख पुलिसकर्मियों के हाथ पांव फूल गए। आनन- फानन में उसे लोहिया अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कार्यवाहक पुलिस कमिश्नर ने इस मामले में थाने के एडिशनल इंस्पेक्टर, नाईट अफसर, हेड कांस्टेबल और पहरा ड्यूटी पर तैनात सिपाही को निलंबित करने के साथ ही जांच के आदेश दिए हैं।

दरअसल मृतक उमेश पर आरोप है, कि गुरूवार की रात उमेश कौशल पुरी इलाके में एक रिटायर्ड एडीसीपी अमित कुमार के घर चोरी के मकसद से घुसा था। इस बीच परिवार आवाज़ सुनकर घरवालों की नींद खुल गयी। उमेश को देखकर परिवार शोर मचाने लगे। उनकी आवाज सुनकर वहां के आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। जिसे देख उमेश भागने लगा। लेकिन स्थानीय लोगों ने उसे घेरकर पकड़ लिया, और घटना की जानकारी पुलिस को दी। कंट्रोल रूम की सूचना पर पहुंची पुलिस उसे पकड़ कर गोमतीनगर विस्तार थाने ले आयी, जहां उसे लॉकअप में रखा गया था। जहां उसने लॉकअप में रोशनदान से बेल्ट के सहारे फांसी लगा ली।

इस घटना से थाने में हड़कंप मच गया। हंगामा होने के बाद एसीपी ने इस लापरवाही के जिम्मेदार पुलिस कर्मियों के खिलाफ रिपार्ट भेजी है। मामले की जांच एसीपी से करवाई जा रही है। इन पुलिसकर्मीयों पर उमेश को हिरासत में लेने से पहले उनकी अच्छी तरह से तलाशी नही लेने का आरोप है। पुलिस ने आरोपी की बेल्ट, गमछा, पर्स आदि सामान उतरवा लिया जाता है। लेकिन, पुलिस उमेश की बेल्ट उतरवाना भूल गयी और उसने इसी के सहारे फांसी लगा ली। पुलिस कमिश्नर ने इस मामले में थाने के एडिशनल इंस्पेक्टर, नाईट अफसर, हेड कांस्टेबल और पहरा ड्यूटी पर तैनात सिपाही को निलंबित करने के साथ ही जांच के आदेश दिए।

Related Articles