फिर लालू और नीतीश में आईं दूरियां, इस बार भी वजह बने मोदी और बीजेपी

0

पटना। बिहार के सीएम नीतीश कुमार और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बीच दूरियां दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं। अभी हाल ही में राष्ट्रपति चुनाव के लिए नीतीश ने मोदी का समर्थन करके सबको चौंका दिया था। जिसके बाद अब एक बार फिर नीतीश ने लालू को बड़ा झटका दिया है। लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी ने 27 अगस्त 2017 को बीजेपी के विरोध में बिहार में एक बड़ी रैली रखी है। लेकिन उन्हें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का साथ नहीं मिलेगा। नीतीश का रैली में शामिल अभी पक्का नहीं है।

लालू प्रसाद यादव

कांग्रेस, सपा और बसपा हो सकते हैं शामिल

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, जदयू के राष्ट्रीय महासचिव श्याम राजक ने कहा कि रैली आरजेडी ने रखी है और जदयू उसमें पार्टी के तौर पर शामिल नहीं होने वाली। श्याम ने आगे बताया कि अगर नीतीश कुमार को रैली में शामिल होने का कोई न्योता मिलेगा तो वह सोचेंगे कि व्यक्तिगत तौर पर उन्हें शामिल होना है या नहीं। बता दें आरजेडी की रैली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला और पूर्व पीएम एच डी देव गोड़ा शामिल हो सकते हैं। इसके साथ ही अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाज पार्टी भी आरजेडी के साथ है।

महागठबंधन पर होगी चर्चा

इसी के साथ ही जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश कार्यकारिणी की महत्वपूर्ण बैठक रविवार को पटना में पार्टी कार्यालय में होने जा रही है। सूत्रों के मुताबिक कार्यकारिणी की बैठक में महागठबंधन में जेडीयू और आरजेडी के बीच राष्ट्रपति चुनाव को लेकर उठे विवाद से लेकर केंद्र सरकार के 3 साल के कामकाज पर भी चर्चा होगी। इस बैठक में खास तौर पर 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी की रणनीति को लेकर भी मंथन किया जाएगा।

loading...
शेयर करें