वायरलेस चार्जिंग की मदद से लंबी रेस का घोड़ा बनने को तैयार हैं इलेक्ट्रिक कारें

नई दिल्ली। जल्द ही हाईवे पर इलेक्ट्रिक कारों की संख्या में इजाफा होने वाला है। इसकी वजह है स्टैनफर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों द्वारा इजात किया गया वायरलेस चार्जर। इस तकनीकि की मदद से हाईवे पर इलेक्ट्रिक कारों को भी चार्ज किया जा सकेगा।

इलेक्ट्रिक कारों

इलेक्ट्रिक कारों के लिए हाईवे पर जगह-जगह लगेंगे चार्जर

साथ ही मेडिकल इंप्लांट और सेलफोन्स को भी इस ‘नियरबाई चार्जिंग’ का लाभ मिल सकेगा। प्रफेसर शैनहुई फैन कहते हैं, ‘वीइक्लस व पर्सनल डिवाइसेज को चार्ज करने में वायरलेस चार्जिंग का दायरा और बढ़ जाएगा।’ जर्नल नेचर में छपी अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया कि यह तकनीक प्लग-इन इलेक्ट्रिक कार्स के क्षेत्र में बड़ा उलटफेर करेगी, जिनकी ड्राइविंग रेंज सीमित होती है। जैसे ही वीइकल इस चार्जिंग के दायरे में आएगा, कार स्वत: चार्ज हो जाएगी।

खबरों के मुताबिक, इस तकनीक से हम इलेक्ट्रिक कार्स को असीमित दूरी तक ले जा सकते हैं, क्योंकि हाइवे पर वे स्वत: चार्ज होते हुए आगे बढ़ती जाएंगी।इस तकनीक में वीइकल के नीचे क्वाइल दी गई होंगी, जो हाईवे पर क्वाइल सीरीज से बिजली रिसीव करेंगी। वह कहते हैं, हम सिर्फ कारों को ही नहीं, बल्कि छोटी से छोटी डिवाइसेज तक कैसे वायरलेस बिजली पहुंचे, इस प्रयास में जुटे हैं।

स्टडी में जिक्र है कि चार्जिंग ट्रांस्फर की इस तकनीक का आगे चलकर और विस्तार किया जा सकता है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *