‘डीएम सर हमारे पास ईद मनाने के पैसे नहीं है’… और उसके बाद जो हुआ वो अपने आप में एक मिसाल है

0

वाराणसी। वाराणसी के डीएम योगेश्वर राम मिश्रा ने ईद के मौके पर एक गरीब मुस्लिम लड़की की मदद कर इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्म है इस बात का उदाहरण दिया है। वाराणसी की शाबाना के इस मैसेज पर डीएम साहब ने अपनी जेब से पैसे देकर उनकी ईद को यादगार बनाया।

वाराणसी के डीएम ने शबाना के एक मैसेज पर ईद मनाने के लिए अपनी जेब से दिए पैसे

दरअसल, कल पूरा देश ईद का त्योहार मना रहा था, लेकिन शबाना के परिवार की माली हालत खराब होने के कारण वो इसे धूमधाम से मनाने में असमर्थ थी। ऐसे में शबाना ने डीएम योगेश्वर राम मिश्रा को एक मैसेज भेजा जिसमें शबाना ने मदद की गुहार लगाई थी। मैसेज़ में शबाना ने लिखा था, “डीएम साहब नमस्ते, मेरा नाम शबाना है। मुझे आपसे कुछ कहना है, मेरा सबसे बड़ा त्योहार ईद है। मेरे आसपास के लोग नए कपड़े पहनेंगे, लेकिन हमारे पास इतना पैसा नहीं है कि नया कपड़ा खरीद सकें। मेरे अब्बू-अम्मी का 2004 में इंतकाल हो चुका है। मेरे घर में मेरे अलावा मेरी नानी और छोटा भाई है। प्लीज कुछ मदद करें जिससे मैं भी ईद मना सकूं…।”

वाराणसी के डीएम

ये मैसेज पढ़कर किसी का भी दिल पिघल जाएगा। बस फिर क्या था डीएम साहब ने जैसे ही ये मैसेज पढ़ा वैसे ही उन्होंने  एसडीएम सदर को बुलाकर शबाना के परिवार की मदद करने को कहा। डीएम ने अपने पास से शबाना, उसकी नानी और छोटे भाई को नए कपड़े, मिठाई और सेवई के लिए रुपए दिए। शबाना ने जिस मोबाइल नंबर से मैसेज किया था, उस नंबर 7272010429 से घर का लोकेशन लेकर एसओ मंडुवाडीह के साथ एसडीएम पहुंच गए। वहां से शबाना को लेकर पूरी टीम बाजार पहुंची। कपड़े, मिठाई और सेवई खरीदी गईं। ये सब देखकर शबाना, उसके भाई और बूढ़ी नानी की पलकें खुशी से भीग गईं।

डीएम ने दिया इंसानियत का उदाहरण

खुशी से फूले नहीं समा रहीं शबाना ने कहा कि मैंने बड़ी मायूसी के साथ डीएम साहब को अपनी ईदी के लिए मैसेज किया था। मुझे इस बात का बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि इतने बड़े अधिकारी को किया हुआ मैसेज वो तुरंत देखकर इस मामले पर इतने गंभीर भी हो जाएंगे। कल शाम को उन्होंने मेरे घर पर उपजिलाधिकारी सुशील कुमार गौड़ को भेजा जब उन लोगों ने मुझे बताया कि आप को हमारे साथ चलना है और मार्केटिंग करनी है तो मैं फूली नहीं समाई।

डीएम के कदम के बाद सिर्फ वाराणसी में ही नहीं बल्कि पूरे देश में उनकी तारीफ हो रही है। उनका ये कदम सभी के लिए एक मिसाल है। एक तरफ जहा पुलिसवालों और बड़े अधिकारियों पर हमेशा भ्रष्ट होने का आरोप लगाया जाता है वहीं डीएम द्वारा उठाया गया ये कदम दिल छू लेने वाला है।

loading...
शेयर करें