यूपी में 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी विइंपा

0

फतेहपुर। विकास इंसाफ पार्टी (विइंपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजकुमार लोधी ने कहा कि वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी प्रदेश की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने बताया कि पार्टी ने किसानों को बर्बाद फसलों के मुआवजे की मांग करने के लिए लखनऊ सचिवालय के सामने गांधी पार्क में अनिश्चितकालीन धरना देने का निर्णय लिया है।

विकास इंसाफ पार्टी

लोधी ने बताया कि पार्टी को मजबूत करने के लिए प्रमोद कुमार उर्फ संजय सिंह को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं अतर सिंह उर्फ हरिओम को प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया है। वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव में प्रदेश की सभी 403 सीटों में प्रत्याशी खड़े किए जाएंगे। उन्हांेने पांच विधानसभा क्षेत्रों के प्रत्याशियों की घोषणा की है, जिसमें सदर विधानसभा क्षेत्र से राष्ट्रीय अध्यक्ष राजकुमार लोधी, हुसैनगंज से नीरज सिंह, बिंदकी से प्रमोद कुमार उर्फ संजय सिंह, अयाह-शाह से राजकरन पासवान, सिराथू से शिवकुमार सोनी को उम्मीदवार बनाने का निर्णय लिया गया है।

नीतीश की मुश्किलें बढ़ी

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को मिली शानदार सफलता के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उत्तर प्रदेश में भी महागठबंधन का फार्मूला चलाने की कवायद शुरू की थी। अब उन पर राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) का दबाव है कि जयंत सिंह को मुख्यमंत्री प्रत्याशी बनाए जाने पर वह हामी भर दें।

उप्र में रालोद और जनता दल (युनाइटेड) के विलय को लेकर मंथन चल रहा है। दोनों पार्टियां विलय के बाद सियासी नफे-नुकसान का आकलन करने में जुटी हुई हैं। सूत्रों की मानें तो रालोद नीतीश कुमार पर पार्टी नेता जयंत सिंह को बतौर भावी मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट करने का दबाव बनाने में लगी हुई है। बिहार में मिली सफलता के बाद उप्र में रालोद के साथ गठबंधन की जोर-आजमाइश की शुरुआत नीतीश कुमार ने कही थी। तय हुआ था कि उप्र विधानसभा चुनाव से पहले रालोद का जद (यू) में विलय हो जाएगा। लेकिन अब रालोद की शर्तो ने नीतीश की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

loading...
शेयर करें