विकीलीक्स ने फिर अमेरिका की गोपनीयता तार तार की

0

विकीलीक्स ने 2010 से 2014 के बीच अमेरिकी विदेश विभाग में हिलेरी क्लिंटन द्वारा किये गये राजनयिक पत्र व्यवहारों का प्रकाशन शुरू कर दिया है। इसमें कई गोपनीय मिशनों से सम्बंधित हैं। जिसे लेकर चिंता जतायी जा रही है कि यदि ये विकीलीक्स के हाथ लग सकते हैं तो दूसरे किसी के हाथ क्यों नहीं।

विकीलीक्स

विकीलीक्स के सर्च इंजन से जुड़े गोपनीय दस्तावेज

विकीलीक्स ने अपनी वेबसाइट का एक कोना आगन्तुकों के लिए खोल दिया है। जिसमें श्रीमती क्लिंटन द्वारा विदेश सचिव रहते हुए भेजे गये निजी ईमेल संदेश शामिल हैं। इस पोर्टल ने यह नयी शुरूआत की है जिसमें अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा सार्वजनिक किये गये 50547 पन्नों के दस्तावेजों को उनके की वर्ड और फ्रेज के आधार पर ढूंढना आसान बना दिया है। विकीलीक्स ने कहा है कि इन दस्तावेजों में 30332 ईमेल शामिल हैं। यह 7570 मेल श्रीमती क्लिंटन ने जून 2010 से अगस्त 2014 के बीच राष्ट्रपति को भेजे थे।

अमेरिकी विदेश विभाग ने श्रीमती क्लिंटन द्वारा भेजे गये ईमेल को गत मई से सार्वजनिक करना शुरू किया था। इसमें यह खुलासा हुआ था उन्होने अपने निजी और गैर सरकारी खाते का इस्तेमाल कार्यालयी पत्राचार के लिए किया था। सरकार ने ईमेल की अंतिम कड़ी फरवरी में जारी की थी।

इसने पहले भी अन्य दस्तावेजों को सर्च पोर्टल में शामिल किया था। इसमें कई एक निजी खुफिया फर्म से चुराये गये मेल शामिल थे। ये फर्म हैकर्स का शिकार हुई थी। विदेश विभाग के सैकड़ों मेल 1960 के दशक के थे।

अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा पहले जारी किये गये और अब विकीलीक्स द्वारा जारी किये गये संग्रह में दो लाख राजनयिक केबल शामिल हैं। जिसमें श्रीमती क्लिंटन द्वारा 2010 में खुफिया समूहों के साथ शेयर की गयी गुप्त जानकारियां भी शामिल हैं। इससे यह साबित होता है कि ये खुफिया जानकारियां यदि विकीलीक्स के हाथ लग सकती हैं तो इसे चीन और दूसरे भी पा सकते हैं। विकीलीक्स ने तत्काल इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

loading...
शेयर करें