विजय माल्या ने कहा, 4000 करोड़ में फुल एंड फाइनल करो

0

नई दिल्ली। तकरीबन 9000 करोड़ रुपये के कर्ज में डूबे उद्योगपति विजय माल्या ने बैंकों को नया प्रस्ताव दिया है। विजय माल्या बैंकों के साथ समझौते के लिए तैयार हो गए हैं। विजय माल्या की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया है कि वो सितंबर तक बैंकों को 4000 करोड़ रुपये देने के लिए तैयार हैं। माल्या का प्रस्ताव उनकी ओर से उनके वकील ने कोर्ट के सामने रखा है।

विजय माल्या के प्रस्ताव पर सुप्रीम कोर्ट ने 1 हफ्ते में बैंकों को जवाब देने के लिए कहा है। इस मामले में अगली सुनवाई 7 अप्रैल को होगी। उधर बैंकों ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि उन्हें इस प्रस्ताव पर चर्चा के लिए समय चाहिेए। इससे पहले कंपनी के जरिए विजय माल्या ने 2000 करोड़ रुपये में किंगफिशर का लोन सैटलमेंट करने की पेशकश की थी जिसे बैंकों ने ठुकरा दिया था।

विजय माल्या का प्रस्ताव सुप्रीम कोर्ट ने बैंकों को भेजा

विजय माल्या

जानकारों का मानना है कि सुप्रीम कोर्ट के कड़े रुख के कारण विजय माल्या को मजबूरन पैसा लौटाने के लिए तैयार होना पड़ा है। अगर किसी ने कर्ज लिया है तो उसे लौटाना पड़ेगा। अब विजय माल्या अपने कर्ज को शांति के साथ लौटाना चाहते हैं। 4000 करोड़ रुपये की रकम कम नहीं है और बैंकों को इसका फायदा लेना चाहिए।

ये भी पढ़े : जानिए किस बैंक का कितना माल लेकर भागे

बैंकों को देखना चाहिए कि वो मिलजुलकर अपने कर्ज की वसूली कर सकें ना कि अकेले अकेले इस मामले को सुलझाएं। अगर बैंक मिलजुलकर अपने पैसे की रिकवरी के लिए कमर कसकर तैयार हो गए हैं तो उनकी पूंजी की वापसी भी तय हो सकती है।

यूनाइटेड बैंक के पूर्व ईडी दीपक नारंग का कहना है कि माल्या पर 9000 करोड़ रुपये का है और वो केवल 4000 करोड़ रुपये में सैटलमेंट करना चाहते हैं। ये साफ साफ अपने कर्ज से बच निकलने की कोशिश है। अब ये बैंकों के ऊपर है कि वो 4000 करोड़ रुपये लेकर संतुष्ट होना चाहते हैं या बाद में  माल्या की संपत्तियों को बेकर अपनी पूंजी निकवाने की कोशिश करेंगे।

loading...
शेयर करें