इस स्‍कूल को कहते हैं 9thWonder, सभी छात्र दोनों हाथों से लिखते हैं

0

नई दिल्‍ली। दुनिया में अभी तक आठ अजूबे हैं। नौवें की तलाश्‍ा जारी है। इन अजूबों की कहानी भी बड़ी हैरान करने वाली है। वैसे हम जो रिपोर्ट पेश कर रहे हैं उसे दुनिया का नौवां अजूबा कह सकते हैं। मध्‍य प्रदेश के ऊर्जाधानी सिंगरौली में एक गांव है बुधेला जहां एक विद्यालय वीणा वादिनी पब्लिक है। जो सफलता के झंडे गाड़ रहा है।

विद्यालय वीणा वादिनी पब्लिक है कुछ अलग

विद्यालय वीणा वादिनी पब्लिक के बच्‍चों के चर्च प्रसिद्ध हैं। जब पढ़ते हुए उन्‍हें देखा गया तो इन बच्चों को देखकर ऐसा लगा कि ये दुनिया के नौंवें अजूबे से कम नहीं हैं।  इस समय पूरे स्‍कूल में करीब दो सौ बच्‍चे अध्‍ययनरत हैं। इन बच्‍चों की सबसे खास बात यह है कि सभी लोग दोनों हाथों से लिखते हैं। कम्प्यूटर के की बोर्ड से भी तेज रफ्तार से उनकी कलम चलती है। जिस कार्य को सामान्य बच्चे आधे घंटे में पूरा कर पाते उसे वह मिनटों में निपटा देते हैं।

दो भाषाओं में एक साथ लेखन

बात अगर उनके दिमाग और नजरों की हो तो वे कुछ जुदा हैं। ये छात्र इतने मजबूत हैं कि दोनों हाथ से हिन्दी-अंग्रेजी या उर्दू-रोमन अर्थात दो भाषाओं में एक साथ लिखकर हैरत में डाल देते हैं। जबकि ऊर्जाधानी का यह गांव पहाड़ों से घिरा है। कोयले के अकूत भंडार के बाद भी इलाके का पिछड़ापन देखकर अच्छी शिक्षा की कल्पना नहीं की जा सकती है। गरीबी से जकड़े इस इलाके में मेधा का यह भंडार आश्चर्य में डालने वाला है।

बच्चों को 6 भाषाओं का ज्ञान

स्कूल में कक्षा 1 से 8 तक की पढ़ाई होती है। नन्हें हाथ देवनागरी लिपि, उर्दू, स्पेनिस, रोमन, अंग्रेजी सहित छह भाषाओं में लिखते हैं। दोनों हाथों से लिखने का कम्पटीशन होता है जिसमे ये बच्चे 11 घंटे में 24000 शब्द लिखने की क्षमता रखते हैं।

250 शब्दों का ट्रांसलेशन

45 सेकंड में उर्दू में गिनती, 1 मिनट में रोमन में गिनती, 1 मिनट में देवनागरी लिपि में गिनती, 1 मिनट में देवनागरी लिपि में पहाड़ा और 1 मिनट में दो भाषाओं के 250 शब्दों का ट्रांसलेशन कर देते हैं। वीणा वादिनी स्कूल में आसपास से पोड़ी, बुधेला, पिपरा झांपी, नौगई, डिग्घी, बिहरा, राजा सर्रई आदि गांव के बच्चे यह कला सीख रहे हैं।

अभावों में पलती प्रतिभा

संसाधनों के हिसाब से दिल्ली, लखनऊ सहित देश के किसी भी महानगर के पब्लिक स्कूल का यह विद्यालय मुकाबला चाहे भले नहीं कर पाए। पर यहां की प्रतिभा सभी को मात दे रही है। यहीं के छात्र रहे आशुतोष शर्मा ने सिंगरौली के उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में नौवीं कक्षा पढ़ाई करते हुए गणित में 100 में से 99 अंक अर्जित किए, जो रिकार्ड है।

दिल्ली में रहकर आईएएस की तैयारी

आशुतोष की तरह ही बुधेला के इस विद्यालय में आठवीं तक पढ़ाई करने वाले दिलीप कुमार शर्मा और रीता शाह भी नाम रोशन कर रहे हैं। यहां से निकलने के बाद आगे की पढ़ाई में भी लोहा मनवाया और इस समय दिलीप और रीता दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं। वे जब भी छुट्टियों में आते हैं तो विद्यालय आकर बच्चों को प्रेरित जरुर करते हैं।

प्रथम राष्ट्रपति की कला से मिली प्रेरणा

वीणा वादिनी पब्लिक स्कूल सरकारी नहीं है। न ही सरकार से कभी कोई सहायता मिली है। इस विद्यायल की नींव एक सोच पर रखी गई है। बैढऩ शहर से करीब 20 किमी. दूर स्थित बुधेला गांव के निवासी वीरंगद शर्मा, जो जबलपुर में आर्मी की ट्रेनिंग कर रहे थे। बताते हैं, एक दिन रेलवे स्टेशन पर एक पुस्तक में उन्होंने पढ़ा।

32000 शब्द लिखने की क्षमता

वीरंगद को विद्यालय वीणा वादिनी पब्लिक के संचालन के दौरान पता चला कि नालंदा विश्वविद्यालय के छात्र औसतन प्रतिदिन 32000 शब्द लिखने की क्षमता रखते थे। इस पर पहले भरोसा करना कठिन था लेकिन इतिहास को खंगाला तो कई जगह इसका उल्लेख मिला। इसी से सीख लेकर बच्चों की लेखन क्षमता बढ़ाने का प्रयास शुरु किया और अब आलम यह है कि 11 घंटे में बच्चे 24 हजार शब्द लिख डालते हैं। वीरगंद शर्मा ने देश के पुराने इतिहास को वर्तमान में सार्थक करने की ठान ली है। जो पूरा होता नजर आ रहा है।

छोड़ी सेना की नौकरी

अजीबोगरीब चीजों के बारे में पता चलते ही जिज्ञासा बढ़ती गई और वीरंगद ने आखिरकार आर्मी की नौकरी छोड़ दी। इसके बाद बैढऩ से एलएलबी किया। पर अपने जुनून को मुकाम तक पहुंचाने के लिए कभी कोर्ट कचहरी नहीं गए। आज वे देश और दुनिया को नालंदा विश्वविद्यालय की धरोहर को बताने में जुटे हैं।

आसान नहीं था इस कला को जीवंत करना

वीरगंद शर्मा कहते हैं कि विद्यालय वीणा वादिनी पब्लिक खोलकर दोनों हाथों से लिखने की कला बच्चों को सिखाएंगे यह अभिभावकों से शुरुआत दौर में नहीं बताया था। उन्हें डर था कि शायद अभिभावक इसे फितूर समझकर बच्चों को विद्यालय नहीं भेजेंगे। स्कूल में प्रथम सत्र में सामान्य बच्चों की तरह पढऩे पहली बार महज 13 बच्चों ने प्रवेश लिया। उन्हीं से शुरु हुआ यह सफर अब नए मुकाम की ओर है।

करीब दो सौ बच्चे करते हैं अदभुत लेखन

वीरंगद बताते हैं कि बच्चों पर ज्यादा बोझ नहीं पड़े और रुचि भी बनी रहे, इसलिए पहले धीरे-धीरे दोनों हाथों से लिखने की कला सिखायी। वह घर जाते तो चर्चा करते। अभिभावक आते तो उनको समझाना पड़ता। कुछ ही सालों में क्षेत्र के लोग इस कला को लेकर आकर्षित हो गए। इस सत्र में अध्ययनरत करीब 200 बच्चे इस हुनर में माहिर हो चुके हैं।

loading...
शेयर करें