यूपी चुनाव के पांचवे चरण में 117 दागी तो 168 प्रत्याशी करोड़पति

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के महासमर में जनता का प्रतिनिधित्व के लिए उतरे उम्मीदवारों में दागियों आपराधिक छवि वालों और करोड़पति नेताओं की भरमार देखने को मिल रही है। पहले, दूसरे, तीसरे और चौथे चरण की तरह पांचवें चरण के विधानसभा चुनाव में भी दागियों की कमी नहीं है। पांचवे चरण के चुनावी मैदान में उतरे 600 से ज्यादा उम्मीदवारों में से 117 यानी 19 प्रतिशत प्रत्याशी आपराधिक छवि वाले हैं । वहीं 168 यानी 27 प्रतिशत उम्मीदवार ऐसे हैं जो करोड़पति की हैसियत रखते हैं 

विधानसभा चुनाव

विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी अजय प्रताप सिंह सबसे अमीर प्रत्याशी हैं

यह लेखा जोखा शुक्रवार को उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक र्फिोम्स (एडीआर) ने अपनी रिपोर्ट जारी करते हुए दिया है। एडीआर ने 11 जिलों की 52 विधानसभा सीटों पर 27 फरवरी को होने वाले उप्र विधानसभा चुनाव के पांचवे चरण में चुनाव लड़ने वाले 617 उम्मीदवारों में से 612 प्रत्याशियों के शपथ पत्रों का विश्लेषण किया। पांचवे चरण में 75 राजनीतिक दलों के 617 उम्मीदवार प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, जिनमें 6 राष्ट्रीय दल, 4 क्षेत्रीय दल, 65 गैर मान्यता प्राप्त दल और 220 निर्दलीय उम्मीदवार शामिल है। 22 विधानसभा सीटों पर तीन से अधिक दागी उम्मीदवार मैदान में हैं।

एडीआर रिपोर्ट के मुताबिक पांचवे चरण में 612 उम्मीदवारों में से 117 (19 प्रतिशत) उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे चल रहे हैं। इनमें से 96 उम्मीदवारों ने हलफनामे में हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे गंभीर आपराधिक मामले होने की जानकारी दी है।

रिपोर्ट के मुताबिक बहुजन समाज पार्टी के 51 में से 23 (45 प्रतिशत) उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। भाजपा के 51 में से 21 (41 प्रतिशत) उम्मीदवारों पर आपराधिक मामला दर्ज है। आएलडी के 30 में से 08 उम्मीदवारों, सपा के 42 में से 17 (41 प्रतिशत) उम्मीदवारों पर, कांग्रेस के 14 में से 3 (21 प्रतिशत) उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

वहीं 220 निर्दलीय उम्मीदवारों में से 19 पर आपराधिक मुकदमे दर्ज है। बसपा के 51 में से 19 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं भाजपा के 51 उम्मीदवारों से 14 पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। रालोद के 30 में से 07 उम्मीदवारों पर, सपा के 42 में से 12, कांग्रेस के 14 से दो उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं 220 में से 17 निर्दलीय उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज है।

एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि पांचवे चरण में 612 में से 168 (27 प्रतिशत) करोड़पति उम्मीदवार हैं। पांचवे चरण में मैदान में उतरे उम्मीदवारों की औसतन आय 1.56 करोड़ रुपये है।

गोंडा के कर्लनगंज सीट से भाजपा प्रत्याशी अजय प्रताप सिंह सबसे अमीर उम्मीदवार घोषित किए गए हैं। उनके पास 49,05,62,192 करोड़ की कुल सम्पत्ति है। वहीं अमेठी की अमेठी सीट से कांग्रेस उम्मीदवार अमीता सिंह के पास 36,77,31,633 करोड़ रुपये की कुल सम्पत्ति हैं। अमेठी की ही तिलोई सीट से भाजपा उम्मीदवार मयंकेश्वर शरण सिंह के पास कुल 32,71,29,454 करोड़ रुपये की सम्पत्ति है।

विधानसभा चुनाव में करोड़पति उम्मीदवारों में बसपा के 43, भाजपा के 38, सपा के 32, कांग्रेस के 14, रालोद के 9 प्रत्याशी शामिल हैं। साथ ही 14 निर्दलीय उम्मीदवार भी करोड़पति हैं। वहीं पांचवे चरण में उतरे 612 में से एक भी उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति शून्य घोषित नहीं की है।

loading...
शेयर करें