अगर शरद पवार राष्ट्रपति चुनाव लड़ना चाहते हैं, तो वह मोदी सरकार में शामिल हो जाएं

0

ठाणे। मोदी सरकार राष्ट्रपति पद को लेकर अपने पत्ते नहीं खोल रही है। पार्टी का साफ मानना है कि 15 जून से पहले वो अपने नाम का खुलासा नहीं करेगी। वहीं, विपक्ष भी पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पूरे विपक्ष को साथ लाने की कोशिश कर रही है। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अपनी स्थिति रखते हुए केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि अगर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के इच्छा रखते हैं तो उन्हें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल हो जाना चाहिए।

बता दें राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर विपक्षी धड़े की ओर से इससे पहले पवार के नाम पर चर्चा हो चुकी है। हालांकि पवार ने खुद इसे खारिज कर दिया था। उन्होंने यह भी कहा कि पवार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मधुर संबंध हैं। भाजपा की सहयोगी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (अठावले) के प्रमुख ने कहा कि अगर कोई मराठी मानुष राष्ट्रपति बनता है तो (मुझे) खुशी होगी। एक अन्य सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पवार विपक्षी दलों के उम्मीदवार नहीं बन सकते।

बता दें इससे पहले शिवसेना ने शरद पवार को सर्वसम्मत उम्मीदवार के रूप में पेश करने की बात कही थी। शिवसेना ने राष्ट्रपति पद के लिए पवार को सर्वसम्मत उम्मीदवार के रूप में पेश करते हुए कहा था कि भाजपा को भी उनको (शरद पवार को) समर्थन देना चाहिए। राउत ने कहा था कि शरद पावर काबिल हैं और काबिल राष्ट्रपति भी बन सकते हैं।

loading...
शेयर करें