विश्व पृथ्वी दिवस: HCFI ने छात्रों को किया जागरूक, बताया हरे-भरे ग्रह का महत्व

नई दिल्ली| वर्तमान पीढ़ी को एक हरे-भरे ग्रह का महत्व बताने और बच्चों के बीच स्वच्छ ऊर्जा संसाधनों की आवश्यकता पर जागरूकता पैदा करने के लिए हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) ने एचएम डीएवी सीनियर सेकेंडरी स्कूल के साथ मिलकर सोमवार को विश्व पृथ्वी दिवस 2018 मनाया। इस मौके पर स्कूल परिसर में विभिन्न अंतर-विद्यालय गतिविधियां और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए गए। लगभग 10 स्कूलों के छात्रों ने इस साल की थीम ‘गो ग्रीन, गो क्लीन’ पर आधारित प्रतियोगिताओं में भाग लिया।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल ने कहा कि हम लगभग तीन दशकों से विश्व पृथ्वी दिवस मनाते आ रहे हैं। इस साल की थीम विशेष है, क्योंकि एक हरियाली भरे ग्रह के लिए स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों के उपयोग पर ध्यान केंद्रित करने की तत्काल आवश्यकता है। प्रदूषण के स्तर में वृद्धि और जिस दर से पेड़ों को काटा जा रहा है, उसके लिए जरूरी है कि हम अपने ग्रह पर इन गतिविधियों के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता बढ़ाएं।

उन्होंने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग, प्राकृतिक आपदाओं और बदलते मौसम पैटर्न जैसी पर्यावरणीय आपात स्थिति, सभी इस बात के संकेत हैं कि जब तक हम प्रयास तेज नहीं करते, हम आने वाली पीढ़ियों के लिए उज्‍जवल भविष्य सुनिश्चित नहीं कर सकते हैं। हमें पानी और बिजली बचाने और प्रदूषण को कम करने के लिए कदम उठाने सहित पर्यावरण के अनुकूल जीवन जीने पर ध्यान देना चाहिए।

दिल्ली के दरियागंज के एचएम डीएवी स्कूल के प्रधानाचार्य आरके तिवारी ने कहा कि ग्रह के लिए उपयोगी विभिन्न चीजों व कार्यों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए स्कूल सबसे अच्छे माध्यम हैं। यदि पढ़ाई की उम्र में चीजें समझ आ जाती हैं तो यह सुनिश्चित हो सकेगा कि आगे भी इन बच्चों की गतिविधियां पर्यावरण को बाधित नहीं करेंगी। पृथ्वी व उसके प्राणियों के बीच संबंधों की भावना बनाना बहुत जरूरी है। इस उद्देश्य के साथ, हमने पृथ्वी दिवस मनाने के लिए कुछ गतिविधियों का आयोजन किया है।

Related Articles