विश्व युवा कौशल दिवस पर ‘मोदी मंत्र’- स्किल युवाओं को बनाएगी आत्मनिर्भर और सशक्त

स्किल इंडिया मिशन के शुरुआत की 5वीं वर्षगांठ का प्रतीक विश्व युवा कौशल दिवस की 5वीं सालगिरह के मौके पर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की जनता को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपना संबोधिन किया। यह देश के युवाओं को स्किल सेट के साथ सशक्त बनाने की शुरूआत है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि नए हुनर को सीखने का एक भी मौका नहीं गंवाना चाहिए। यही हुनर देश को आत्मनिर्भर बनाने में ताकत की तरह सहयोग करेगा। बता दें कि आज से पांच साल पहले प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की शुरुआत की गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर जनता से कहा आज के युवा की सबसे बड़ी ताकत उसकी स्किल ही है। इस दौरान पीएम मोदी ने युवाओं को एक नया मंत्र भी दिया जो उन्हें संकट के समय में प्रासंगिक रहने और उन्हें सशक्त बनाने में मदद करेगा। उन्होंने कहा कि यह दिन आपके कौशल के लिए समर्पित है। पीएम मोदी ने कहा कि सहस्राब्दी युवाओं की सबसे बड़ी ताकत नए कौशल प्राप्त करना है। कोविड -19 ने नौकरियों की प्रकृति को बदल दिया है, और फिर नई तकनीक है जिसने हमारे जीवन को भी प्रभावित किया है। हमारे युवाओं को नए कौशल अपनाने होंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘चार-पांच दिन पहले देश में श्रमिकों की स्किल मैपिंग का एक पोर्टल भी शुरू किया गया है। यह पोर्टल कुशल लोगों व कुशल श्रमिकों की मैपिंग करने में अहम भूमिका निभाएगा। इससे एक क्लिक में ही स्किल्ड मैप वाले वर्कर्स तक एंप्लायर्स पहुंच सकेंगे।’ यही समझते हुए अब कौशल विकास मंत्रालय ने दुनिया भर में बन रहे इन अवसरों की मैपिंग शुरू की है। कोशिश यही है कि भारत के युवा को अन्य देशों की जरूरतों के बारे में, उसके संबंध में भी सही और सटीक जानकारी मिल सके।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय में प्रासंगिक बने रहना बहुत महत्वपूर्ण है ताकि लोग न केवल अपनी आजीविका कमा सकें, बल्कि दूसरों की भी मदद कर सकें। “प्रासंगिक बने रहने का मंत्र है: कौशल, पुन: कौशल और उन्नति।”

 

पीएम मोदी ने कहा, “स्किल का अर्थ है, आप कोई नया हुनर सीखें. जैसे कि आपने लकड़ी के एक टुकड़े से कुर्सी बनाना सीखा, तो ये आपका हुनर हुआ। आपने लकड़ी के उस टुकड़े की कीमत भी बढ़ा दी. वैल्यू एडिशन किया। लेकिन ये कीमत बनी रहे, इसके लिए नए डिजाइन, नई स्टाइल, यानी रोज कुछ नया जोड़ना पड़ता है। उसके लिए नया सीखते रहना पड़ता है और कुछ नया सीखते रहने का मतलब ये है री-स्किल.”

पीएम ने कहा, “स्किल, री-स्किल और अपस्किल का ये मंत्र जानना, समझना, और इसका पालन करना है। हम सभी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है।

बता दें कि ‘कौशल भारत केंद्र सरकार की एक पहल है। जिसे नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद स्किल इंडिया अभियान की शुरुआत की गई थी। यह भारत सरकार की एक पहल है जो देश के युवाओं को स्किल सेट के साथ सशक्त बनाने के लिए शुरू की गई है। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत कुल 92 लाख उम्मीदवारों को प्रशिक्षित किया गया और लाखों लोगों को रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना महिलाओं को हुनर प्रदान कर उनकी जिंदगी आसान बना रही है। हर साल 15 जुलाई को UN से मान्यता प्राप्त इवेंट WYSD मनाया जाता है। यूनेस्को (UNESCO) के अनुसार, इसका उद्देश्य युुवाओं को रोजगार परक कुशलता।

Related Articles