सेना की जीप पर बंधा दिख रहा युवक आया सामने – बताया पूरा सच, आप भी रह जाएंगे हैरान

0

श्रीनगर। हाल ही में एक वीडियो के सामने आने से काफी बवाल मचा हुआ है। वीडियो कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर पोस्ट किया था। जिसमें दिख रहा था कि सेना एक शख्स को जीप के आगे बांध कर ले जा रही है। इस वीडियो के सामने आने के बाद इसकी जांच की बात भी हो रही थी। लकिन उससे पहले ही इस शख्स की पहचान हो गई है। जिस शख्स को जीप ने बांधा गया था उसका नाम फारुख अहमद डार है।

यह भी पढ़ें : CRPF जवान को पीटने वालों को सिखा दिया सबक, पत्थरबाजों को गाड़ी में बांध ले गई सेना !

26 साल के फारुख ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वह पत्थर फेंकने वालों में शामिल नहीं है। उसने कहा कि मैं कभी भी पत्थर नहीं फेंके, मैंने अपनी पूरी जिंदगी में पत्थर नहीं उठाया, मैं तो शॉल पर कढ़ाई करने का काम करता हूं, साथ ही थोड़ी बहुत कारपेंट्री करता हूं। मुझे बस यही आता है।’ वह चि-अरिजाल (बड़गाम) का रहने वाला है। इस बीच, प्रमुख विपक्षी दल नेशनल कांफ्रेंस के कार्यवाहक प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर इसे राज्य सरकार की नाकामी का प्रतीक बताया और कहा कि पत्थरबाजों से बचने के लिए अब जीप पर युवकों को बांधा जा रहा है।

शख्स को जीप ने बांधा गया

75 साल की मां के साथ अकेला रहता है

उस घटना के बाद से फारुख बड़ा परेशान है। उसने डर की वजह से शिकायत भी नहीं की। शिकायत ना करने की बात का जिक्र करते हुए फारुख ने कहा, ‘गरीब लोग हैं, क्या करेंगे शिकायत। वही, फारुख ने बताया कि वह अपनी 75 साल की मां के साथ अकेला रहता है। फारुख की मां को अस्थमा है। उन्होंने फारुख की बात से सहमति जताते हुए कहा कि हमें किसी जांच की जरूरत नहीं है, हम गरीब लोग हैं, मैं इसको खोना नहीं चाहती, मेरे बुढ़ापे का यह अकेला सहारा है।

यह भी पढ़ें : कुमार विश्वास ने सोशल मीडिया पर शेयर किया वीडियो, पीएम मोदी और केजरीवाल पर दागे कई सवाल

9 अप्रैल का है वीडियो

फारुख ने बताया कि वह वीडियो 9 अप्रैल का है। फारुख के मुताबिक, उस दिन आर्मी ने उसको सुबह 11 बजे पकड़ा और तकरीबन चार घंटे तक तकरीबन 25 किलोमीटर तक ऐसे ही घुमाया। फारुख ने बताया कि उस दिन वह अपने कुछ साथियों के साथ एक रिश्तेदार के घर जा रहा था जिसकी श्रीनगर में मौत हो गई थी। तब रास्ते में आर्मी ने उसकी मोटरसाइकिल रोक ली और उसको जीप से बांधकर आगे बैठा दिया। फारुख के मुताबिक, आर्मी ने उसको मारा भी था। उसके बाद उसको आसपास के 9 गांवों में घुमाया गया।

उमर ने क्या कहा

उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि इस मामले में तुरंत जांच और कार्रवाई किए जाने की जरूरत है। उन्होंने पहले वाले वीडियो पर हो रहे बवाल का हवाला देते हुए लिखा है कि इस वीडियो को देखकर उतना आक्रोश क्यों नहीं भड़कता। उधर इस वीडियो को लेकर सेना के सूत्रों का कहना है कि इस घटना की जगह और तथ्यों की जांच हो रही है।

 

 

loading...
शेयर करें