शरद पवार का निधन… फिर ट्वीट आया-मैं अभी जिंदा हूं

0

नई दिल्‍ली। गणतंत्र दिवस के दिन खबर आई कि एनसीपी के अध्‍यक्ष शरद पवार का निधन हो गया। बताया गया कि सोमवार को ही शरद पवार का निधन हो गया था, लेकिन गणतंत्र दिवस के वजह से इसकी आधिकारिक पुष्टि नही की जा रही है।

शरद पवार

शरद पवार के निधन का फर्जी मैसेज

शरद पवार को 24 जनवरी को पुणे के रूबी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी तबियत खराब बताई गई थी। डॉक्‍टरों के मुताबिक पवार को डायबिटीज और ब्‍लड प्रेशर की वजह से भर्ती करना पड़ा था। हालांकि तब डॉक्‍टरों ने कहा था कि उनकी तबियत में जल्‍द ही सुधार आएगा और 27 जनवरी तक उन्‍हें डिस्‍चार्ज कर दिया जाएगा।

इस बीच पवार के निधन की खबर ने सबको चौंका दिया। लेकिन इससे भी ज्‍यादा हैरानी तब हुई, जब पवार ने खुद 26 जनवरी को ट्विटर पर लिखा- ‘मैं बिल्‍कुल ठीक हूं, आपकी सभी की दुआ के लिए शुक्रिया।’ यानी शरद पवार जिंदा और भले-चंगे हैं।

दरअसल, शरद पवार को लेकर एक झूठा मैसेज 26 जनवरी को फेसबुक, ट्विटर और वाट्सऐप पर वायरल हो गया था। इसके बाद से लाेगों ने पवार को श्रद्धांजलि देना शुरू कर दिया। हालांकि किसी ने रूबी अस्‍पताल या शरद की पार्टी एनसीपी से इसकी पुष्टि करने की नहीं सोची।

शरद पवार

आखिरकार जब मैसेज खुद पवार के पास पहुंचने लगे तो आज दोपहर 12 बजकर 16 मिनट पर खुद शरद पवार ने अपने दुरुस्‍त होने की खबर लोगों तक पहुंचाई। महाराष्ट्र के सबसे वरिष्ठ नेता पवार ने 2014 लोकसभा चुनाव के बाद से सक्रिय राजनीति से दूरी बना ली थी। लेकिन उनके राजनीतिक दखल को कोई भी नकार नहीं सकता।

पवार के बयान अक्‍सर राजनीति में भूचाल ला चुके हैं। कई बार उनके बयानों के अलग-अलग मायने होते हैं। पवार को राजनीति के माहिर खिलाडि़यों में से एक माना जाता है। वह वक्‍त के हिसाब से अपने कदम बढ़ाते हैं। पवार फिलहाल राज्‍यसभा के सदस्‍य हैं।

loading...
शेयर करें