….लो अब गोरखपुर की शराब पी रहे हैं बिहारी पियक्कड़

0

वेद प्रकाश पाठक

गोरखपुर। बिहार में पूर्ण शराब बंदी के बाद यूपी-बिहार सीमा पर शराब की तस्करी बढ़ गई है। अब बिहार के शौकीन लोग यूपी से मंगाई गई शराब का सेवन करने लगे हैं। बहुत से लोग तो ऐसे भी हैं जो सीमापार सिर्फ शराब पीने आते हैं और पैग लगाकर वापस बिहार चले जाते हैं। देवरिया और कुशीनगर बार्डर से सटे बिहारी इलाकों में तो गोरखपुर में बनी देशी शराब का धड़ल्ले से सेवन किया जा रहा है। चूंकि शराब बंदी भी हाल ही में लागू हुई है लिहाजा अभी दोनों प्रांतों की पुलिस तस्करी को लेकर बहुत सक्रिय नहीं हो पाई है।

शराब

बढ़ गई अचानक खपत

यूं तो गोरखपुर में शराब की दो बड़ी फैक्ट्रियां हैं लेकिन सबसे ज्याद खपत सिर्फ एक ही फैक्ट्री के शराब की हो रही है। सरैया डिस्टीलरी नामक इस फैक्ट्री से बने देशी शराब की खपत अचानक से डेढ़-दो गुना बढ़ गई है। फैक्ट्री के अधिकारी भी यह स्वीकार करने लगे हैं कि ऐसा तस्करी के कारण भी संभव हो सकता है। सबसे ज्यादा खपत भी देवरिया और कुशीनगर जिलों में बढ़ी है जिससे स्पष्ट है कि दोनों जिलों से शराब खरीदकर बिहार ले जाई जा रही है। शराब की एक अन्य फैक्ट्री इंडिया ग्लाइकोल लिमिटेड भी गोरखपुर में ही है लेकिन यहां की देशी शराब मिर्जापुर और भदोही जैसे इलाकों में भेजी जाती है। इस फैक्ट्री में अंग्रेजी शराब भी बनती है लेकिन इसकी सप्लाई सिर्फ मीलिट्री कैंटिन में है लिहाजा तस्करी की गुंजाइश नहीं है।

साईकिल से तस्करी

गोरखपुर में बनी देशी शराब की तस्करी बिहार के लिए साईकिल से की जा रही है। बिहार के शराब कारोबारियों ने तस्करी के लिए कैरियर्स का सहारा लेना शुरू कर दिया है। ये कैरियर्स झोले में देशी दारू की शीशियां रखकर बिहार पहुंचा रहे हैं। तस्करी की गई शराब की ये बोतलें बिहार में मुंहमांगे दाम पर बिक रही हैं। अंग्रेजी दारू पीने के शौकीन शराबी ट्रेनों और निजी गाड़ियों के सहारे यूपी से शराब लेकर बिहार जा रहे हैं।

ज्यादा दाम की वसूली

देवरिया और कुशीनगर जैसे बिहार से सटे इलाकों में शराब का कारोबार करने वाले भी खासा मजे में हैं। चूंकि बिहार के कारण डिमांड बढ़ गई है लिहाजा वे प्रिंट रेट से भी महंगे दाम पर शराब बेचते हैं। डिमांड और सप्लाई के अनुपात में आए अंतर का फायदा उन्हें खूब मिल रहा है। ऐसे व्यापारी जब बिहारी ग्राहक की पहचान कर लेते हैं तो उनसे और भी महंगे दाम लेकर देशी शराब देते हैं।

loading...
शेयर करें