आइये आपको मिलवाते हैं शराब की रानी से

0

चंडीगढ़। शराब की रानी। ये कोई शराब का ब्रांड नहीं है। ये बिजनेसवूमैन हैं। भारत में आमतौर पर शराब के बिजनेस में पुरूष जुड़े हुए हैं जिन्हें लिकर किंग या शराब माफिया के रूप में जाना जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि एक शराब की रानी भी इस धंधे में उतर चुकी है औऱ उत्तराखंड से छोटे स्तर पर शुरूआत कर कदम जमाने वाली इस शराब की रानी का साम्राज्य आज दिन दूनी और रात चौगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है।

शराब की रानी ने इस देश में नया चलन शुरू किया है। आमतौर पर महिलाएं शराब और उसके कारोबार से दूर ही रहती हैं लेकिन लीज सराओ भारत की लिकर इंडस्ट्री की एक मात्र लेडी एंटरप्रेन्योर। जब से उन्होंने इस इंडस्ट्री में कदम रखा है, तब से अल्कोहल एफएमसीजी की लिस्ट में शामिल हुआ। इस वजह से यह अब सुपर मार्केट में भी उपलब्ध है, जहां महिलाएं भी अब आसानी से लिकर खरीद सकती है।

शराब की रानी

शराब की रानी का भारत के 14 राज्यों में फैला है कारोबार

Lease-sarao-is-the-wine-business-industry-in-indias-14-statesशराब की रानी लीज सराओ पंजाब से हैं और यूके में पली-बढ़ी। शादी के बाद उनका भारत आना हुआ तो यहां उन्हें इंटरनेशनल ब्रांड के प्रोडक्ट्स नहीं मिलते थे। लीजा ने कहा पिता यूके में रहते हैं, वहां खुद एक बीयर कंपनी के मालिक हैं। यहीं से लीजा को भारत में भी लिकर कंपनी खोलने की प्रेरणा मिली। लीजा ने बताया शुरुआत में भारत जैसे देश में लिकर कंपनी खोलना थोड़ा मुश्किल था, क्योंकि यह हर राज्य में एक अलग एक्साइज पॉलिसी है। हमनें छोटे स्तर पर उत्तराखंड से इसकी शुरुआत की। धीरे-धीरे हमारा बिजनेस बढ़ा तो पंजाब, हरियाणा समेत 14 राज्य तक पहुंचाया।

लीज का कहना है कि भारत में एक महिला होकर बेवरेज इंडस्ट्री का हिस्सा बनना पहले सभी को चुभता था। मुझे कई लोग बड़ी हैरानी भरी नजरों से देखते थे। लेकिन इसका मुझे पर कोई असर नहीं पड़ा। भला मेरे आने से इसमें क्या बुरा है, पुरुष भी तो कितनी ही लिकर कंपनी खोल कर बैठे थे तो भला मैं क्यों पीछे हटती। भारत में लिंग के आधार पर काफी भेदभाव होता है। जिस वजह से इस तरह की भावना उपजती है, मैं इसे खत्म करना चाहती हूं और पिछले कुछ सालों में तो महिलाएं हर इंडस्ट्री में लीड कर रही हैं।

loading...
शेयर करें