शहीद कर्नल संतोष बाबू का आज होगा अंतिम संस्कार, पिता बोले- मुझे गर्व है की वो मेरा बेटा है

लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के साथ हिंसक झड़प में शहीद कर्नल संतोष बाबू का पार्थिव शरीर आज हैदराबाद पहुंचेगा. उनका शाम 4 बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा. शहीद कर्नल की पत्नी और बच्चे दिल्ली से हैदराबाद पहुंच गए हैं. बाकी परिवार हैदराबाद में है.

शहीद कर्नल संतोष बाबू के पिता बी उपेंदर ने कहा कि वह केवल 37 साल का था और उसके सामने एक सुनहरा भविष्य था. बतौर पिता मैं बहुत दुखी हूं, लेकिन एक भारतीय नागरिक और सैनिक फैमिली का हिस्सा होने के कारण मुझे बेटे पर गर्व है. शहीद कर्नल बाबू हमेशा काउंटरसिंर्गेंस से लेकर अन्य पोस्टिंग में फील्ड जॉब पर थे.

वहीं, शहीद कर्नल की मां मंजुला ने बताया कि मेरी बहू दिल्ली में रहती हैं. उन्होंने दोपहर 2 बजे के करीब मुझे फोन किया और बताया कि संतोष बाबू नहीं रहे. उसे सोमवार रात को ही जानकारी मिल गई थी. मुझे संतोष बाबू की शहादत पर गर्व है, क्योंकि वो देश के लिए कुर्बान हुआ, हालांकि दुखी भी हूं क्योंकि वो मेरा इकलौता बेटा था.

गौरतलब है कि लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार रात को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. इस झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए. 70 के दशक के बाद पहली बार गलवान घाटी में भारतीय जवानों की शहादत हुई है. शहीदों में 16 बिहार रेजिमेंट के जांबाज अफसर कर्नल बी संतोष बाबू भी शामिल हैं.

वहीं समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस हिंसक झड़प में चीन के 43 सैनिक हताहत हुए हैं. इसमें से कई की मौत हुई है तो कई घायल हैं. हालांकि, चीन की ओर से इसकी पुष्टि नहीं की गई है. एलएसी पर अभी भी तनावपूर्ण माहौल है. चीन के साथ बातचीत बेनतीजा रही है.

 

Related Articles