शिखर धवन … अब सिर्फ मूंछे ही रह गईं हैं

शिखर धवन

अतुल कात्‍यायन

मेलबर्न। शिखर धवन की खराब फॉर्म उनकी ससुराल में भी उनका पीछा नहीं छोड़ रही है। ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्‍बेन में खेले गए दूसरे वनडे में भी शिखर धवन का प्रदर्शन पहले वनडे जैसा ही रहा। या यूं कहें कि तमाम पिछले वनडे जैसा रहा। वहीं पर्थ में उन्होंने 9 और ब्रिस्बेन में 6 रन बनाए।

शिखर धवन ने अभ्‍यास मैच में खेली थी 74 रन की पारी

शिखर धवन ने ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर पहले अभ्‍यास मैच में 74 रनों की पारी खेलकर संकेत दिए थे कि उनकी मूंछों में अभी ताकत बाकी है। पारी देखकर लगा शायद सीरिज में उनका बल्‍ला सबसे ज्‍यादा चलेगा लेकिन ऐसा अभी तक जो हुआ वो पूरा देश पिछले साल से हर वनडे मैच में देख रहा है। दूसरे अभ्‍यास मैच में धवन 4 रन ही बना सके। इसके बाद खेले गए दोनों वनडे में भी उनका स्‍कोर दहाई के आंकड़े को नहीं छू पाया।

बीबी के डर से तो नहीं खेल रहे गब्‍बर

ऑस्‍ट्रेलिया शिखर धवन का ससुराल भी है। इसको लेकर ट्विटर पर धवन का खूब मजाक बनाया जा रहा है। लोग धवन से पूछ रहे हैं कि कहीं बीबी के डर से तो गब्‍बर का बल्‍ला खामोश नहीं है।

इससे पहले भारत में साउथ अफ्रीका के खिलाफ भी शिखर धवन का बल्‍ला कुछ खास कमाल नहीं कर पाया था। साउथ अफ्रीका के खिलाफ आखिरी वनडे मैच में ही धवन अर्द्धशतक लगा पाए। बाकी के चार मैचों में उनका बल्‍ला खामोश ही रहा।

बात की जाए धवन के बल्‍ले से निकली सेंचुरी की तो पिछले साल मार्च में आयरलैंड के खिलाफ धवन ने 100 रनों की पारी खेली थी। धवन की पिछली 7 पारियों में उन्‍होंने सिर्फ एक हाफ सेंचुरी लगाई हैं। धवन का खराब प्रदर्शन अंतरराष्ट्रीय मैचों में ही नहीं घरेलू क्रिकेट में भी लगातार जारी रहा। हाल ही वो विजय हजारे ट्राफी के 4 मैचों में खेले। कुल मिलाकर 4 पारियों में 96 रन बनाए लेकिन हॉफ सेंचुरी नहीं बना पाए।

अब रविवार को टीम इंडिया एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया से मेलबर्न में भिड़ेगी। अब तलवार शिखर धवन पर है कि उनको उनके हालिया लचर प्रदर्शन के बाद टीम में जगह मिलती है या नहीं। फिलहाल हालात को देखते हुए शिखर मारे शर्म के अपनी मूंछों को भी ताव नहीं दे पा रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button