मोदी सरकार पर फिर उठीं उंगलियां, लाचार मां ने अपने बेटे के साथ दी जान

0

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विधानसभा क्षेत्र बुदनी में बेटे के दिल में छेद की बीमारी से परेशान एक महिला ने अपने मासूम के साथ सोमवार को आग लगाकर खुदकुशी कर ली। इस मामले पर राज्य की सियासत गर्मा गई है। राजनीतिक दलों ने सवाल किया है कि सब को स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री के इलाके का यह हाल है, तो प्रदेश के अन्य इलाकों की स्थिति को सहजता से ही समझा जा सकता है।

शिवराज सिंह चौहान

शिवराज सिंह चौहान की सरकार फिर कठघरे में

सीहोर जिले के बुदनी विधानसभा क्षेत्र के तालपुरा गांव में दुर्गाबाई ने अपने पांच माह के बेटे के साथ सोमवार को आग लगाकर जान दे दी थी। इस महिला के परिवार की आर्थिक स्थिति खराब है और बेटे के दिल में छेद होने की बीमारी का वह इलाज नहीं करा पा रही थी। कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को तालपुरा पहुंचकर पीड़ित परिवार से मुलाकात की।

प्रदेश कांग्रेस महामंत्री पी. सी. शर्मा, मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा और प्रवक्ता विभा पटेल ने मौके का दौरा करने के बाद पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव को एक रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें राज्य सरकार और प्रशासनिक तंत्र पर गंभीर लापरवाही का आरोप लगाया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रशासनिक और चिकित्सकों की लापरवाही इसी से जाहिर होती है कि कोई भी अफसर पीड़ितों के पास नहीं पहुंचा और पोस्टमार्टम होशंगाबाद में कराना पड़ा।

रिपोर्ट में इस बात पर भी घोर आश्चर्य व्यक्त किया गया है कि जब प्रदेश में बच्चों के दिल के ऑपरेशन के लिए ‘अटल बाल उपचार योजना’ संचालित है और ‘मुख्यमंत्री स्वेच्छा अनुदान योजना’ में प्रति वर्ष 25 करोड़ रुपयों की राशि का आवंटन निर्धारित है, तो फिर मुख्यमंत्री के क्षेत्र के ही गरीब परिवार को इलाज का लाभ क्यों नहीं मिला।

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के प्रदेश सचिव बादल सरोज ने कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री चौहान गाल बजाते हुए कहते हैं कि प्रदेश में इलाज के अभाव में किसी को मरने नहीं दूंगा। मगर, उन्हीं के क्षेत्र में एक महिला अपने बेटे के साथ इलाज के अभाव में जान दे देती है।

माकपा ने इस दिल दहलाने वाले हादसे के लिए मुख्यमंत्री और प्रदेश की स्वास्थ्य प्रणाली को मुनाफाखोरों के हाथ में सौंपने वाली नीतियों को जिम्मेदार ठहराया है और उम्मीद जताई है कि मुख्यमंत्री स्वयं इस्तीफा दे देंगे।

loading...
शेयर करें