शिवसेना ने कहा, ‘कन्हैया जहरीले नाग की तरह रोज दंश मार रहा है’

0

मुंबई। जेएनयू मामले में रोज कोई न कोई नेता बयान दे रहा है। कोई कन्हैया के पक्ष में तो कोई विरोध में। वहीं अब इसमें शेवसेना भी कूद गई है। शिवसेना ने जेएनयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार को लेकर मोदी सरकार पर हमला किया है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा कि जमानत पर छूटा कन्हैया जहरीले नाग की तरह रोज दंश मार रहा है और फन हिलाकर भाजपा और उसके लोगों को डरा रहा है।

शिवसेना

शिवसेना ने मोदी सरकार को भी घेरा

जेएनयू में देशद्रोही नारे लगाने के मुख्य आरोपी कन्हैया पर निशाना साधते हुए सामना के संपादकीय में पार्टी ने लिखा कि इसी तरह गुजरात में पटेल आरक्षण आंदोलन चलाने वाले हार्दिक पटेल पर भी देशद्रोह का मामला दाखिल किया गया था। लेकिन कई महीनों तक उसे जमानत नहीं मिली फिर जेएनयू मामले में कन्हैया को कुछ ही दिन में जमानत कैसे मिल गई। शिवसेना ने सामना ने सवाल किया कि ये कैसे हुआ। वह जमानत पर छूटने के बार बाहर आकर सबकी खिल्ली उड़ा रहा है। साथ ही कहा कि कन्हैया को हीरो बनाया जा रहा है। इतना ही नहीं शिवसेना ने कन्हैया के बाद मोदी सरकार को घेरा। सामना में लिखा कि मजदूर वर्ग, श्रमिक वर्ग के मेहनत के ‘प्रॉविडेंट फंड’ के पैसे पर भी सरकार ने अब कर लगा दिया है।

जेएनयू प्रोफेसर ने लगाया सरकार पर आरोप

जेएनयू प्रोफेसर जयती घोष ने कहा कि वह विश्वविद्यालय को बदनाम करने के लिए रचा गया षड्यंत्र था और इसकी योजना एक उच्च स्तर पर बनायी गई थी। कार्यक्रम के दौरान जो लोग मौजूद थे उनमें तीन नकाबपोश लोग थे जिन्होंने ‘देश विरोधी’ नारेबाजी की और ये परोक्ष रूप से आईबी से थे। हमारा यही संदेह है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र-विरोधी शब्द पर चर्चा नया नहीं है बल्कि कुछ साल पहले से चल रहा है। उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ सालों से सरकार के राजनीतिक विरोधियों पर कार्रवाई के लिए राष्ट्र-विरोधी शब्द का इस्तेमाल किया जा रहा है। अब हम देख रहे हैं कि पूरे यूनिवर्सिटी को राष्ट्र-विरोधी बताया जा रहा है।’ जयती घोष ने कहा कि हमारा यही संदेह है। हम उससे अधिक महत्वपूर्ण है जितना कि हम मानते हैं..हम वास्तव में निशाने पर हैं। इसी कारण से हमें स्वयं का बचाव करना होगा।

loading...
शेयर करें