जीएसटी, वायदा-विकल्प तय करेंगे शेयर बाजार की चाल

0

मुंबई। शेयर बाजार में अगले सप्ताह उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहने की उम्मीद है। 1 जुलाई से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) शासन लागू किया जा रहा है, जिसका असर अगले सप्ताह शेयर बाजार में देखने को मिलेगा। इसके अलावा वायदा व विकल्प की समाप्ति, मॉनसून का रूख, घरेलू और वैश्विक व्यापक आर्थिक आंकड़े, वैश्विक बाजारों का रुझान, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) और घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) का रुख, डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतें मिलकर बाजार की चाल तय करेंगे। जून से जुलाई सीरीज के वायदा और विकल्प (एफएंडओ) की समाप्ति गुरुवार को होगी, जिस पर निवेशक अपनी स्थिति तय करेंगे।

यहां भी पढ़ें : स्मॉलकैप, मिडकैप शेयरों में आई गिरावट

शेयर बाजार

शेयर बाजार में अगले सप्ताह उतार-चढ़ाव का दौर

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि देशभर के लिए 22 जून तक मानसून के दौरान हुई बारिश लंबी अवधि के औसत (एलपीए) से चार फीसदी अधिक है। जून-सितंबर के दक्षिण-पश्चिमी मानसून देश की कृषि के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि देश की खेती का काफी हिस्सा सिंचाई के लिए वर्षा पर निर्भर है।

आईएमडी ने छह जून को जारी किए गए दक्षिण-पश्चिमी मानसून की बारिश के अपने दूसरे चरण के पूवार्नुमान में कहा था कि पूरे देश के लिए मानसून की बारिश लंबी अवधि की औसत (एलपीए) का 98 फीसदी रहने की संभावना है। इसमें चार फीसदी की त्रुटि हो सकती है।

वहीं, प्रमुख सुधारों में से एक वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के कार्यान्वयन पर निवेशकों का ध्यान बना रहेगा। जम्मू-कश्मीर राज्य को छोड़कर सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों (विधानसभाओं) ने राज्य वस्तु एवं सेवा कर (एसजीएसटी) अधिनियम को मंजूरी दे दी है। संसद भवन के सेंट्रल हॉल में 30 जून की रात एक विशेष समारोह होगा, जिसमें जीएसटी को लांच किया जाएगा।

सरकार शुक्रवार को मई, 2017 के लिए अवसंचरना के आंकड़ों को जारी करेगी। साल दर साल आधार पर अप्रैल में यह 2.5 फीसदी थी, जबकि मार्च में 5.3 फीसदी थी।

वैश्विक मोर्चे पर, अमेरिका के टिकाऊ वस्तुओं के आर्डर के मई के आंकड़े सोमवार को जारी किए जाएंगे। माह दर माह आधार पर अप्रैल में यह गिरकर 0.7 फीसदी रही थी, जबकि मार्च में इसमें तेजी देखी गई थी और यह 2.3 फीसदी पर रही थी। अमेरिका की जीडीपी विकास दर के आंकड़े गुरुवार को जारी किए जाएंगे। अमेरिकी अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 2017 के पहले तिमाही में 1.2 फीसदी रही, जो पहले लगाए गए अनुमान 0.7 फीसदी से अधिक है।

loading...
शेयर करें