श्रीश्री रविशंकर ने कहा, जेल जाउंगा लेकिन जुर्माना नहीं दूंगा

0

नई दिल्ली। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने आर्ट ऑफ लिविंग के श्रीश्री रविशंकर को अल्टीमेटम दिया है कि शाम चार बजे तक पांच करोड़ रुपये का जुर्माना जमा नहीं कराया तो कार्यक्रम रद्द किया जा सकता है। वहीं खबर आ रही है कि पीएम मोदी श्रीश्री रविशंकर के कार्यकम में शामिल होंगे।

श्रीश्री रविशंकर

श्रीश्री रविशंकर को लग सकता है झटका

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यू‍नल ने डीडीए के वकील को बुलाकर पूछा कि क्या आर्ट ऑफ लिविंग पर लगाया गया पांच करोड़ का जुर्माना डीडीए को मिल गया है? NGT ने साफ कर दिया है अगर चार बजे तक पैसा जमा नहीं कराया गया तो डीडीए कार्यक्रम के लिए दी गई इजाजत वापस ले सकता है। चार बजे एक बार फिर डीडीए के वकील एनजीटी को बताएंगे कि पांच करोड़ का फाइन आर्ट ऑफ लिविंग ने जमा कराया या नहीं।

श्रीश्री ने कहा नहीं दूंगा जुर्माना
श्री श्री रविशंकर ने कहा है कि वो तीन लोगों की रिपोर्ट को स्वीकार नहीं करेंगे, जो मौके पर सिर्फ आधे घंटे के लिए गए थे। आध्यात्मिक गुरू ने कहा कि उन्हें ये बताना चाहिए कि वहां क्या नुकसान हुआ है। श्रीश्री ने एनजीटी के फैसले पर असंतोष जताया। उन्होंने कहा कि मैं जेल जाने के लिए तैयार हूं लेकिन जुर्माना नहीं दूंगा।

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने पर करोड़ों को जुर्माना

एनजीटी ने आध्यात्मिक गुरू और आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर का वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल को तय समय पर कराने की इजाजत दे दी थी। दो दिन की सुनवाई के बाद नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल कार्यक्रम की अनुमति देने को राजी हुआ था। हालांकि ट्रिब्यूनल ने यमुना के बाढ़ क्षेत्र में होने वाले पारिस्थितिकी नुकसान के लिए फाउंडेशन पर पांच करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया था।

याचिका पर सुनवाई से इनकार

शुक्रवार से शुरू होने जा रहे इस कार्यक्रम के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी, जिस पर कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया है। किसान संघ ने इस मामले में याचिका दायर की थी। संघ का कहना था कि इस कार्यक्रम की वजह से यमुना में बाढ़ वाले क्षेत्र के पारिस्थितिक अस्तित्व को नुकसान पहुंचा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले को एनजीटी के सामने ले जाना चाहिए।

loading...
शेयर करें