जेल से लौटने के बाद संजय दत्त का रोंगटे खड़े करने वाला पहला इंटरव्यू

0

मुंबई। खलनायक से मुन्नाभाई बने संजय दत्त ने जेल से निकले के बाद अपना पहला इंटरव्यू दिया और अपने जेल में गुजारे दिनों से जुड़ी कुछ चौंकाने वाली बातें शेयर कीं। संजय को जेल से बाहर आए लगभग एक महीना होने वाला हैं लेकिन संजय अभी भी खुद को आज़ाद महसूस नहीं करते। 25 फरवरी को संजय दत्त पुणे की यरवदा जेल से बाहर आए थे। वे 1993 के बम धमाको के तहत आर्म्स एक्ट मामले में मिली सजा काट रहे थे।

 संजय दत्त

संजय दत्त ने किए रोंगटे खड़े करने वाले खुलासे

संजय ने अपने इस इंटरव्यू में ऐसे खुलासे किए जो किसी के भी रोंगटे खड़े कर दे। मुन्नाभाई ने बताया कि जेल एक ऐसी जगह है जहां सिर्फ आपका शरीर ही नहीं बल्कि आपका दिमाग भी सलाखों में कैद हो जाता है। हर छोटी से छोटी चीज़ के लिए भी परमीशन लेनी पड़ती है अपने मन से हम कुछ नहीं कर सकते। मैं सिर्फ पांच सालों से नहीं बल्कि 23 सालों से जेल में हूं जब से मेरा ये केस शुरू हुआ है।

संजय ने कहा, मुझे कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं मिलता था बल्कि दूसरों के मुकाबले मेरे साथ और बुरा बर्ताव किया जाता था। मुझे लगता है जैसे मैं अंग्रेजों के दौर में था जहां जेलर के आने पर हमें जमीन पर बैठना पड़ता था और थोड़ी सी जगह में 50 लोग को रखा जाता था।

संजय ने जेल में अपनी दिनचर्चा के बारे में बताया कि मैं सुबह 6 बजे उठता था और फैमिली को याद करके रोता था। जेल में मुझे वर्कआउट करने के लिए डम्बल्स नहीं दिए जाते थे तो मैं बाल्टी में पानी भर कर उसे डम्बल्स की तरह इस्तेमाल करता था। वर्कआउट के बाद नहा धोकर मैं शिव पुराण, गणेश पुराण, महाभारत, भगवद्गीता और रामायण का पाठ करता था। यानी पूरी तरह पंडित बन गया था।

एक साल तक मैंने चने की दाल खाई। मुझे खाने में रजगिरा दिया जाता था, जिसका स्वाद बहुत खराब था। मैं पूछता था कि इसे कौन खाता है। तो वे कहते थे कि गधा भी इसे नहीं खाता। मैं जब जेल गया था तो मेरा वजन 100 किलो था और जब बाहर आया तो 40 किलो वजन कम हो चुका है। अगर किसी को अपना वजन कम करना हो तो उसको कुछ दिनों के लिए जेल चले जाना चाहिए।

अभी भी पुलिस वाले को देखकर डर जाते हैं संजय 

संजय ने कहा कि अभी नॉर्मल होने में थोड़ा वक्त लगेगा क्योंकि अभी भी जब वो किसी पुलिस वाले को देखते हैं तो वो घबरा जाते हैं। उन्होंने कहा कि मैं अब पहले से बहुत अच्छा इंसान बन गया हूं और थोड़ा चालाक भी। फिलहाल संजय इनदिनों अपने दोनों बच्चों इकरा और शहरान के साथ वक्त बिता रहे हैं। जब संजय जेल गए थो उस वक्त उनके बच्चे दो साल के थे। संजय ने अपनी अपकमिंग फिल्मों के बारे में भी बात की उन्होंने बताया की वो तीन फिल्में करने वाले हैं एक सिद्धार्थ आनंद के साथ, दूसरी विधू विनोद चोपड़ा के साथ और तीसरी मुन्नाभाई सीरीज़ होगी।

loading...