शीतयुद्ध के समय कट्टर दुश्मन थे पाकिस्तान और रूस, अब करेंगे संयुक्त सैन्य अभ्यास

0

मास्को: पाकिस्तान और रूस की बढती नजदीकियों के बीच खबर मिल रही है दोनों देश इस साल के अंत तक पहली बार संयुक्त सैन्य अभ्यास करेंगे। उनके इस संयुक्त सैन्य अभ्यास की तैयारियां भी शुरू हो गई है। शीतयुद्ध के दौरान अलग-अलग खेमों रहे पाकिस्तान और रूस का संयुक्त सैन्य अभ्यास को उनके आपसी सैन्य सहयोग को दर्शाने के लिए आयोजित किया गया है। पाकिस्तान के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से बताया जा रहा है कि दोनों पक्षों के लगभग 200 सैन्यकर्मी इन संयुक्त अभ्यासों में भाग लेंगे।

संयुक्त सैन्य अभ्यास

संयुक्त सैन्य अभ्यास करेंगे पाकिस्तान और रूस

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून में छपी खबर के अनुसार, यह कदम मास्को और इस्लामाबाद के बीच बढ़ते रक्षा संबंधों के बीच उठाया जा रहा है। इस्लामाबाद आधुनिक रूसी युद्धक विमानों को खरीदने पर भी विचार कर रहा है। मास्को में पाकिस्तान के राजदूत काजी खलीलुल्ला ने बताया कि यह पहली बार है, जब इन दोनों देशों के सैन्यकर्मी संयुक्त सैन्य अभ्यासों ‘फ्रेंडशिप-2016’ में हिस्सा लेंगे।

हालांकि उन्होंने अभ्यासों की प्रकृति और तिथियों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी। खलीलुल्ला ने कहा कि यह दोनों देशों के बीच बढ़े हुए सहयोग को दर्शाता है। उन्होंने पिछले सप्ताह एक रूसी समाचार एजेंसी को बताया कि यह निश्चित तौर पर दोनों पक्षों की ओर से रक्षा एवं सैन्य-तकनीकी सहयोग को विस्तार देने की इच्छा दर्शाता है।

अखबार ने कहा कि संयुक्त सैन्य अभ्यास को सेनाओं के बीच बढ़ते सहयोग के एक अन्य कदम के रूप् में देखा जाता है। यह उन दो देशों के द्विपक्षीय संबंध में एक सतत वृद्धि दिखाता है, जिनके संबंध दशकों तक चली शीत युद्ध की दुश्मनी के कारण बिगड़ गए थे।

आपको बता दें कि अभी बीते दिन खबर मिल रही थी कि आतंकवाद के खिलाफ भारत और अमेरिका भी संयुक सैन्य अभ्यास करने जा रहा है। बताया जा रहा था कि  भारत और अमेरिका के बीच आपसी रक्षा समन्वय के तहत 14 से 27 सितंबर तक दोनों देशों के सेना के जवान संयुक्त युद्धाभ्यास-2016 का आयोजन उत्तराखंड के चौबटिया में किया जाएगा। दोनों देशों के बीच 12वां संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास सेना के मध्य कमान मुख्यालय के तत्वावधान में किया जाएगा।

loading...
शेयर करें