इन चार स्पोर्ट्स स्टार्स ने किया ये बड़ा काम

0

रॉजर फेडरर, सचिन तेंडुलकर, बॉब स्टीवर्ट…। ये वो नाम हैं, जिन्हें बड़ा स्पोर्ट्स स्टार ही नहीं, बल्कि बड़े दिलवाला भी माना जाता है। ये किसी के रोल मॉडल साबित हुए तो किसी के लिए बने मसीहा। आपको ऐसी ही सचिन तेंडुलकर और स्पोर्ट्स शख्सियत से जुड़ी 4 इंस्पिरेशनल कहानियां बता रहा है…

सचिन तेंडुलकर और 3 खिलाडि़यों की ये हैं 4 स्टोरीज…

– सचिन तेंडुलकर : डेयरी में काम करने वाले की बदली जिंदगी

– रॉजर फेडरर : कोच के पैरेंट्स के लिए बने मसीहा

– बॉब स्टीवर्ट : बैड ब्वाय टायसन को बनाया वर्ल्ड चैम्पियन

– जोए मार्टिन : सिगरेट पीने वाले बच्चे को बना दिया मुहम्मद अली

सचिन तेंडुलकर

सचिन तेंडुलकर : डेयरी में काम करने वाले की बदली जिंदगी

सुधीर को सचिन तेंडुलकर का सबसे बड़ा फैन माना जाता है। बहुत कम लोग जानते होंगे कि सुधीर कभी बिहार की सुधा डेयरी में कलाकंद बनाने का काम करता था। हालांकि उसने बाद में शिक्षा मित्र और टीसी की जॉब भी की। कई कोशिशों के बाद 29 अक्टूबर, 2003 को सचिन से पहली बार मुलाकात हुई। उन्हें सचिन ने न केवल खाना खिलाया बल्कि वन डे मैच का पास भी दे डाला। उस मुलाकात के बाद सुधीर की जिंदगी ही बदल गई। दुनिया के किसी भी कोने में मैच हो, सचिन उन्हें सारी सुविधाओं के साथ बुलाने लगे। सारा खर्च सचिन ही उठाते थे। सचिन रिटायर हो गए, लेकिन वे आज भी टीम इंडिया का मैच देखने के लिए उनका खर्च उठाते हैं। सुधीर आज भी टीम इंडिया के हर मैच के दौरान स्टेडियम में दिखाई देते हैं। सुधीर अब टीम इंडिया के हर खिलाड़ी के पसंदीदा हैं। उनकी लाइफ स्टाइल भी काफी बदल गई है।

सचिन तेंडुलकर

रॉजर फेडरर : कोच के पैरेंट्स के लिए बने मसीहा

रॉजर फेडरर जब भी ऑस्ट्रेलियन ओपन में खेलते हैं तो उनके कोच के पीछे एक कपल बैठा रहता है। यह जोड़ा फेडरर की फैमिली का मेंबर तो नहीं है, लेकिन उससे कहीं ज्यादा फेडरर को प्यारा है।  दरअसल, यह कपल फेडरर के पूर्व कोच पीटर कार्टर के पिता बॉब और मां डायना हैं। पीटर उसी शख्स का नाम है, जिसने रॉजर फेडरर के टैलेंट को पहचाना था। पीटर की एक कार एक्सिडेंट में 1 अगस्त, 2002 को साउथ अफ्रीका में मौत हो गई। उस वक्त फेडरर 21 साल के थे और मौत के समय टोरंटो में खेल रहे थे। कोच की मौत के बाद से फेडरर ने अपने मां-पिता की तरह पीटर के पैरेंट्स को संभाला। वे हर मैच के लिए उन्हें फर्स्ट क्लास कैटेगरी का एयर टिकट देते हैं और सारा खर्च उठाते हैं।

सचिन तेंडुलकर

बॉब स्टीवर्ट : बैड ब्वाय टायसन को बनाया वर्ल्ड चैम्पियन

माइक टायसन क्रिमिनल एक्टिविटिज के लिए सिर्फ 13 साल की उम्र तक 30 से अधिक बार जेल जा चुके थे। इसी दौरान न्यूयॉर्क में उनकी मुलाकात बॉब स्टीवर्ट से हुई। स्टीवर्ट बॉक्सिंग चैम्पियन थे। टायसन ने बॉब से बॉक्सिंग सीखाने का रिक्वेस्ट किया। काफी सोचने के बाद बॉब ने भी कोचिंग के लिए हां कर दी। यहीं से टायसन का दिन बदल गया। टायसन पर होने वाला खर्च भी बॉब ही उठाते थे। माइक टायसन को बॉक्सिंग इतिहास के 10 बेस्ट बॉक्सर में शामिल किया जाता है।

सचिन तेंडुलकर

जोए मार्टिन : सिगरेट पीने वाले बच्चे को बना दिया मुहम्मद अली

फेमस कोलंबिया जिम में होम शो के दौरान वहां आने वाले बच्चों को खाना मुफ्त दिया जाता था। इसी इवेंट में खाना खाने के लिए मुहम्मद अली अपने दोस्त के साथ आए थे। जब वे खाना खाकर वापस जाने के लिए बाहर निकले तो देखा उनकी साइकिल चोरी हो गई थी। वे इसकी शिकायत लेकर कोलंबिया जिम के कोच जोए मार्टिन के पास गए। जोए ने अली की जिद और एग्रेशन को देखते हुए फ्री की कोचिंग देने का ऑफर दिया। ये भी कहा कि उन्हें यहां खाना भी मिलेगा। अली ने ऑफर मान लिया ओर जिम ज्वाइन कर ली। बॉक्सिंग में आने के बाद अली ने सिगरेट सहित कई बुरी आदतों को छोड़ा। उन्हें इतिहास का सबसे बेहतरीन बॉक्सर माना जाता है।

 

(दैनिक भास्‍कर से साभार)

loading...
शेयर करें