सपा ने पहले पार्टी से निकाला फिर टिकट दिया और फिर काट दिया पत्ता

0

सपा कानपुर। जिला पंचायत चुनाव में पार्टी विरोधी कार्य करने पर फतेहपुर जनपद के कई नेताओं को सपा ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था। इसके बाद उन्हीं में से दो नेताओं को वापसी के बगैर विधानसभा प्रत्याशी बना दिया गया था। जिससे लग रहा था कि शायद पार्टी ने उन्हें माफ़ कर दिया है।  लेकिन कुछ दिन में ही उनके स्थान पर दूसरों को प्रत्याशी बनाये जाने की घोषणा कर दी गई। जिससे यह लग रहा है कि पार्टी मुखिया ने उन्हें एक बार और सजा दे दी है।

सपा के  ओम प्रकाश गिहार को पार्टी से निकाला  गया

फतेहपुर जनपद में बिंदकी, खागा व अयाह शाह सीट के प्रत्याशियों को हटा दिया गया है। इनमे बिंदकी से पूर्व जिलाध्यक्ष समरजीत सिंह और खागा सीट से ओमप्रकाश गिहार को जिला पंचायत चुनाव में पार्टी द्वारा घोषित प्रत्याशी के विरोध पर पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। उनकी बिना वापसी कराये ही उन्हें प्रत्याशी घोषित किये जाने से लोग अचरज में थे। लोगों को लग रहा था कि जब यह पार्टी में ही नहीं हैं तो फिर प्रत्याशी कैसे बना दिए गए।
लोगो की यह उहापोह अभी चल ही रही थी कि इन प्रत्याशियों की प्रत्याशिता समाप्त कर दी गई। इसके साथ ही जनपद की एक अन्य सीट अयाह शाह का भी प्रत्याशी बदल दिया गया। खागा में ओमप्रकाश गिहार के स्थान पर विनोद पासवान को प्रत्याशी बनाया गया है। जबकि बिंदकी से समरजीत सिंह को हटा तो दिया गया है लेकिन अभी नए प्रत्याशी की घोषणा नहीं की गई है। वही अयाह शाह सीट से दलजीत निषाद को हटाकर रीता प्रजापति को प्रत्याशी बनाया गया है। रीता प्रजापति को खनन मंत्री का खास होने के कयास लगाये जा रहे हैं। पार्टी से निष्कासन के बाद प्रत्याशी बनाये जाने पर जहाँ लोगों को अचरज हो रहा था। वहीँ अब उन्हें हटाये जाने के पीछे इसे सजा दिया जाना लोग मान रहे हैं।
इस सम्बन्ध में सपा के फतेहपुर जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि प्रत्याशियों में ऊपर से ही फेरबदल हुआ है। उन्होंने यह स्वीकार किया कि जनपद की छोटी बड़ी गतिविधियों से राष्ट्रीय व प्रदेश नेतृत्व अवगत है। इसीको देखते हुए निर्णय लिया होगा।

 

loading...
शेयर करें