हाफिज ने आतंकी हमले को बताया सर्जिकल स्ट्राइक

0

नई दिल्ली। भारत के खिलाफ हमेशा से जहर उगलने और आतंक को पालने वाला लश्कर ए तैयबा और जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद ने फिर से आग उगला है। अखनूर हमले को भारतीय सेना पर आतंकियों द्वारा की गई ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ बताया है।

सर्जिकल स्ट्राइक

आतंंकी हमले को सर्जिकल स्ट्राइक का नाम दे रहा है सईद

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के मुज्जफराबाद में अपने संगठन के एक ओरिएंटेशन सेशन के दौरान उसने कहा कि इस हमले में आतंकियों ने भारतीय सेना के कैंप को पूरी तरह से नष्ट कर दिया और तीस जवानों को खत्म कर दिया। भारत के खिलाफ आग उगलते हुए उसने कहा कि महज चार मुजाहिद्दिनों ने भारतीय सेना के कैंप को पूरी तरह से नष्ट कर दिया। आतंकियों की इस सर्जिकल स्ट्राइक में सेना के दस कमरे तबाह हो गए और तीस जवान मारे गए। इतना की नहीं उसनेे यह कहते हुए उन आतंकियों की पीठ भी थपथपाई की वह इस सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सुरक्षित वापस भी आ गए और उन्हें कहीं एक खरोंच भी नहीं आई।

उसने भारत के न्यूज चैनलों की इस बात के लिए खिल्ली भी उड़ाई की उन्होंने अखनूर हमले में महज तीन मजदूरों के मारे जाने की बात पेश की। उसने जिहाद को धर्मयुद्ध बताते हुए कहा कि यही एकमात्र वह रास्ता है जिससे कश्मीर को भारत से आजाद कराया जा सकता है। उसने कहा कि कश्मीर और पाकिस्तान में रहने वाले सभी मुस्लिमों का यह फर्ज है कि वह सभी इस जिहाद के लिए आगे आएं। उसने इस सर्जिकल स्ट्राइक पर आतंकियों की पीठ थपथपाते हुए इसको पूरी तरह से कामयाब बताया। उसने कहा कि यह सर्जिकल स्ट्राइक भारत के द्वारा पिछले वर्ष सितंबर में की गई सर्जिकल स्ट्राक का जवाब था।

हालांकि उसने अपनी भाषण में यह साफ नहीं किया कि अखनूर हमले को अंजाम देने वाले आतंकी लश्कर के थे या नहीं। गौरतलब है कि पिछले वर्ष ही सितंबर में आतंकिेयों ने उड़ी स्थित सेना के कैंप पर हमला किया था। इस हमले में 19 जवानों की मौत हो गई थी। इसके बाद भारतीय सेना के कमांडो द्वारा पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था। इसमें आतंकियों के कई कैंपों को निशाना बनाया गया था। इस पूरे ऑपरेशन में करीब तीस आतंकी मारे गए थे जबकि उनके कई कैंपों को पूरी तरह से नष्ट कर दिया गया था। इतना ही इस स्ट्राइक के बाद पीओके में आतंकियों के ठिकानों को भी बदल दिया गया था।

Edited by- Shailendra verma

loading...
शेयर करें