सहारनपुर के हालात एक बार फिर बेकाबू, सीएम ने अफसरों को दिए सख्त निर्देश

0

सहारनपुर। यूपी के सहारनपुर जातीय हिंसा रुकने के नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को बसपा सुप्रीमों मायावती के दौरे के बाद एक बार फिर हिंसा भड़क उठी। दलितों और राजपूतों के बीच हुयी खूनी झड़प में सात लोग घायल हो गए और एक व्यक्ति की मौत हो गई। इस घटना के बाद सीएम योगी ने तत्काल अधिकारियों को सहारनपुर के लिए रवाना कर दिया।

सहारनपुर

सहारनपुर हिंसा में अब तक 24 गिरफ्तार, चप्पे-चप्पे पर फ़ोर्स तैनात

कल हुयी हिंसा में अबतक 24 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जानकारी के मुताबिक,स घटना के बाद सीएम योगी ने एडीजी लॉ एंड ऑर्डर और आईजी एसटीएफ को सहारनपुर जाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने सख्त निर्देश दिए कि ये अधिकारी शांति बहाली सुनिश्चित करेंगे। एक महीने के अंदर सहारनपुर में यह हिंसा की तीसरी घटना है।

क्या था मामला 

ये हिंसा तब शुरू हुयी थी जब, जब सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में डॉ आंबेडकर की मूर्ति लगाने का विरोध किया गया। दलितों ने आरोप लगाया कि गांव के ठाकुरों ने इस मूर्ति को नहीं लगाने दिया। फिर जब राजपूत महाराणा प्रताप जयंती पर जुलूस निकाल रहे थे तब दलितों ने भी विरोध किया। उसके बाद से ही दलितों और राजपूतों में संघर्ष जारी है।

दलितों पर हमला, एक की मौत 

बसपा सुप्रीमों कल शब्बीरपुर पीड़ितों से उनका हाल जानने पहुंची थीं। इसके बाद दोनों पक्षों में संघर्ष हुआ जिसमें कुछ घरों में तोड़फोड़ और आगजनी हुई। बाद में मायावती के जाने के बाद कुछ लोगों ने वहां से लौट रहे बसपा समर्थकों की गाड़ी पर हमला कर दिया। गाड़ी में सवार लोगों को मारा और गाड़ी तोड़ दी।  इस वारदात में सात लोग घायल हो गए जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। बाद में इनमें से एक व्यक्ति की मौत हो गई। बसपा के समर्थक अस्पताल के सामने विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

मायावती ने सहायता राशि की घोषण की  

घटना के बाद इलाके में तनाव का माहौल है। चप्पे-चप्पे पर फ़ोर्स तैनात कर दी गई है। हालात  पर अधिकारी नजर बनाये हुए हैं।  वहीं यहाँ पहुँच कर मायावती ने 5 मई को हिंसा का शिकार हुए पीड़ितों से मुलाक़ात की और मायावती ने जिनके घर जले उन्हें 50 हजार रूपये और घायलों को 25 हजार की सहायता राशि देने की घोषणा की।

 

loading...
शेयर करें