गौ मांस खाने वालों को बीच चौराहे पर फांसी दी जानी चाहिए

0

लखनऊ। राम कथा और प्रवचनों के लिए मशहूर साध्वी सरस्वती इस बार अपने विवादित बयान को लेकर चर्चा में हैं। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा की रहने वाली साध्वी सरस्वती ने कहा कि वो पीएम मोदी से अनुरोध करेंगी कि बीफ खाने वालों को चौराहे पर फांसी दी जाए।

साध्वी सरस्वती

साध्वी सरस्वती ने कहा कि सबसे बड़ी चुनौती गैर-हिंदू को हिंदू बनाने की है

गोवा में आयोजित आल इंडिया हिंदू कन्वेंशन के उद्घाटन सत्र में बोलते हुए उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध करुंगी कि ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए जो स्टेट्स सिंबल के लिए गौ मांस खाते हैं। साध्वी सरस्वती ने हिंदू समुदाय से अपील की है कि महिलाएं लव जिहाद से बचने के लिए अपने घरों में हथियार रखें।

साध्वी सरस्वती ने कहा कि आज कि सबसे बड़ी चुनौती गैर-हिंदू को हिंदू बनाने की नहीं बल्कि पहले हिंदू को ही हिंदू बनाना है। अपने भाषण के दौरान साध्वी ने सेकुलर (धर्मनिरपेक्ष) लोगों पर भी निशाना साधा। साध्वी ने कहा कि ऐसे लोग (सेकुलर) मुखौटा लगाए रहते हैं और सबसे इन पर हमला होना चाहिए।

इस दौरान बीफ फेस्टिवल आयोजित करने वालों पर निशाना साधते हुए साध्वी सरस्वती ने कहा कि जो व्यक्ति अपने मा (गौमाता) का मांस खाने को अपना स्टेटस सिंबल मानते हैं, ऐसे व्यक्तियों को भारत सरकार से निवेदन करती हूं, फांसी पर लटकाना चाहिए, बीच चौराहे पर लटकाना चाहिए…तब लोगों को पता चलेगा की गऊ माता कि रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।

हालांकि इस इस कार्यक्राम से आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, भाजपा और विश्व हिंदू परिषद ने दूरी बनाई रखी। इस कार्यक्रम का आयोजन हिंदू जागृत समिति सनात संस्था की ओर से आयोजित किया गया था। सनातन संस्था के कुछ लोगों पर नरेंद्र दाभोलकर की हत्या का मामला चल रहा है। नरेंद्र दाभोलकर अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के प्रमुख थे।

loading...
शेयर करें