सामने आई बड़ी रिपोर्ट, कोरोना वैक्सीन लोगों के लिए हो सकता है खतरनाक…

चीन में कम से कम चार दवा कंपनियां कोरोना वैक्सीन बनाने पर काम कर रही हैं. कंपनी की कोरोना वैक्सीन के पैकेट पर साफतौर से लिखा है कि इसे चीन के नेशनल मेडिकल प्रोडक्ट्स एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से मंजूरी नहीं मिली है. लेकिन The Epoch Times की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की एक सरकारी कंपनी ने कुछ कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से वैक्सीन लगवाने को कहा है.

को कंपनी का एक आंतरिक डॉक्यूमेंट हाथ लगा है जिससे ये जानकारी मिली है कि नाम की कंपनी ने अपने कुछ कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से कोरोना वैक्सीन ट्रायल में हिस्सा लेने को कहा गया है. वहीं, एक्सपर्ट का कहना है कि सरकारी एजेंसियों से वैक्सीन को मंजूरी नहीं मिली है और ये खतरनाक है.

रिपोर्ट के मुताबिक, 15 जून के डॉक्यूमेंट से पता चलता है कि कंपनी ने सात समूहों के अपने कर्मचारियों को CoronaVac वैक्सीन ट्रायल में हिस्सा लेने को कहा है.  दिसंबर 2019 के आंकड़े के मुताबिक, कंपनी के कुल 7,476 कर्मचारी हैं. कंपनी ने डॉक्यूमेंट में यह भी दावा किया है कि वैक्सीन काफी सुरक्षित है और प्रभावी है.

 

अमेरिका की सोसायटी ऑफ टॉक्सिकोलॉजी के सदस्य और चाइनीज यूनिवर्सिटी ऑफ हॉन्ग कॉन्ग से जुड़े चान किंग मिंग कहते हैं- ‘ये वैक्सीन खतरनाक हो सकते हैं. ये वैक्सीन शायद काम ही न करे. सबसे बुरी स्थिति में ये भी हो सकती है कि वैक्सीन की वजह से लोग संक्रमित हो जाएं और उन्हें वुहान वालों की तरह न्यूमोनिया हो जाए.’

चान किंग मिंग ये भी सवाल करते हैं कि इस वैक्सीन को मंजूरी नहीं मिली है तो इससे सुरक्षा के लिए कौन जिम्मेदार होगा? बता दें कि बीजिंग स्थित कंपनी ने नाम से कोरोना वैक्सीन कैंडिडेट तैयार किया है. वहीं, अमेरिका और ब्रिटेन में वैक्सीन ट्रायल के दौरान वैसे लोगों को खुराक दी जा रही है जो खुद से अपने रिस्क पर वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आ रहे हैं.

Related Articles