करोड़ों कमाने वाले किसानों को नहीं देना होगा GST, इनके लिए जरूरी होगा रजिस्ट्रेशन

0

नई दिल्ली। खेती करने वाले किसानों के लिए खुशखबरी है। अगर किसान खेत में उगाई फसल से एक साल में करोड़ों की आमदनी करता है तो उसे जीएसटी के तहत कोई टैक्स नहीं चुकाना होगा। इसका साफ मतलब है कि उन्हें जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत नहीं है।

साल में करोड़ों की आमदनी

साल में करोड़ों की आमदनी करने वाले किसानों को रजिस्ट्रेशन की भी नहीं जरूरत

इस बात की जानकारी केंद्रीय राजस्व सचिव हसमुख अढिया ने दी है। उन्होंने कहा कि किसानों को अपने खेत में उगी किसी भी फसल के लिए जीएसटी नहीं देना होगा। यही वजह है कि अगर कोई किसान सालभर में करोड़ों की कमाई भी क्यों न करता है तो उसे जीएसटी के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की भी जरूरत नहीं है।

उन्होंने बताया कि जीएसटी में खेती से उगे सामान की बड़ी सरल परिभाषा तय की गई है, जो भी चीज खेत से उगा रहे हैं, उस पर टैक्स नहीं लगेगा। राजस्व सचिव ने बताया कि यदि कोई कारोबारी कई राज्यों में अपना सामान बेचते हैं तो उन्हें सिर्फ वहां पंजीकरण कराना होगा, जिस राज्य से सामान बेच रहे हैं।

वहीं, अगर उनका दफ्तर यदि कई राज्यों में है और हर राज्य के पते पर बिलिंग हो रही है तो उन्हें उन हर राज्य में पंजीकरण कराना होग, जहां से बिलिंग हो रही है।

इन्हें जरूरी होगा रजिस्ट्रेशन कराना

अढिया का कहना है कि जो बिजनेस रिवर्स चार्ज वसूल करते हैं जैसे कि ट्रांसपोर्ट्स। अगर इनका सालाना टर्नओवर 20 लाख से कम भी है तो इन्हें जीएसटी के लिए रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी हो जाएगा। वहीं, इंटरनेट के जरिए अपने सामान की सेलिंग करने वाले बिजनेस मैन को भी जीएसटी नंबर लेना जरूरी होगा।

अढिया ने कहा है कि अखबार के ऐड स्पेस पर पांच फीसदी का जीएसटी है। ऐसे में जिन अखबारों को ऐड स्पेस से सालाना 20 लाख से ज्यादा की इनकम होती है तो उन्हें भी जीएसटी नंबर लेना पड़ेगा।

loading...
शेयर करें