सावधान! घर में बना रखा है इस जगह मंदिर, तो हो जाएंगे बर्बाद

नई दिल्ली। आजकल देखा गया है कि लोग घर बनवाते समय उसमें एक छोटा सा मंदिर भी बनवा लेते हैं। जहां पर भगवान की मूर्तियां रखकर पूजा-पाठ किया जाता है। कहते हैं कि घर में मंदिर बनवाने से यहां सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है लेकिन यह मंदिर हमेशा सही दिशा में बनवाना चाहिए। घर या ऑफिस में मंदिर बनवाते समय इस बात का बेहद खास ख्याल रखना चाहिए कि वह सही दिशा में हो। ऐसा न होने पर इसका बेहद बुरा प्रभाव पड़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की किस दिशा में मंदिर बनवाना चाहिए।

जानिए किस दिशा में बनवाएं मंदिर
वास्तु शास्त्र के अनुसार चाहें घर हो या ऑफिस, मंदिर का निर्माण हमेशा ईशान कोण, यानी उत्तर-पूर्व दिशा में ही करवाना चाहिए। इस दिशा को ब्रह्म स्थान माना जाता है। अतः पूजा स्थल के निर्माण के लिये इसी दिशा का चुनाव करना सबसे बेहतर होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार मंदिर की दीवारों का रंग हल्का पीला होना शुभ होता है।

जानिए घर में किस जगह न बनवाएं मंदिर
वास्तु के अनुसार कभी भी सोने वाले स्थान या फिर बेड के पास मंदिर नहीं बनाना चाहिए। अगर आपके बेडरूम में मंदिर हैं तो रात को मंदिर पर पर्दा डाल दें।

भूलकर भी मंदिर के आसपास कूड़ादान, शौचालय, झाड़ू-पोछा आदि न रखे। इससे नकारात्मक ऊर्जा प्रबल हो जाती है।

कभी भी सीढ़ियों के नीचे मंदिर न बनाएं। इसके अलावा घर में बनाये मंदिर के ऊपर गुंबद न बनाये। ऐसा करना नकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है।

Related Articles