IPL
IPL

सीएनजी घोटाले की जांच में सहयोग को लेकर केजरीवाल और एलजी में फिर शुरू हुई जंग

सीएनजी घोटाले की जांचनई दिल्ली सीएनजी घोटाले की जांच में सहयोग करने को लेकर दिल्‍ली सरकार और उपराज्‍यपाल नजीब जंग के बीच एक बार फिर तकरार बढ़ गर्इ है। उपराज्‍यपाल ने सीएनजी घोटाले की जांच में सहयोग करने से साफ इनकार कर दिया है। उन्‍होंने इस मामले में जस्टिस एसएन अग्रवाल की मदद करने से भी मना कर दिया।

सीएनजी घोटाले की जांच में सहयोग को लेकर जस्टिस अग्रवाल ने एलजी से मांगी थी मदद

कुछ दिनों पहले ही जस्टिस अग्रवाल ने उपराज्याल नजीब जंग को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि वह एसीबी चीफ एमएस मीणा को सीएनजी घोटाले से जुड़े सभी दस्तावेज जांच टीम को सौंपने का निर्देश दें। पत्र के जवाब में एलजी ने कहा कि वह गृह मंत्रालय के उस आदेश को मानने के लिए बाध्य हैं जिसमें कहा गया है कि यह इंक्वायरी बिना वजह है और इसका कोई तुक नहीं है।

क्या है सीएनजी फिटनेस घोटाला?

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के कार्यकाल में सीएनजी किट लगाने के लिए दो कंपनियों को ठेका दिया गया था। आरोप है कि इसमें 100 करोड़ से ज्यादा का नुकसान दिल्ली सरकार को उठाना पड़ा था।

किट लगाने में हुआ था खेल

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के समय सीएनजी किट लगाने ठेका एक कंपनी को दिया गया था। इसमें कई खामियां मिलीं थी। बिना टेंडर का ठेका दिया गया था। इसमें खर्च सरकार कर रही थी और आमदनी कंपनी ले रही थी। फर्जी फिटनेस टेस्ट करके पैसा लिया जा रहा था। जांच में पाया गया कि 100 करोड़ से ज्यादा का नुकसान दिल्ली सरकार को उठाना पड़ा था।

डीडीसीए केस पर भी फंस सकता है पेंच

गौर करने वाली बात ये है कि उपराज्यपाल का ये कदम आगे चलकर डीडीसीए मामले में भी विवाद खड़ा कर सकता है क्योंकि उसे लेकर भी मंत्रालय ने पहले ही जांच को बेतुका बता दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button