BCCI से मान्यता मिलने के लिए भारतीय दृष्टिहीन क्रिकेट संघ ने उठाई आवाज

0

नई दिल्ली। भारतीय दृष्टिहीन क्रिकेट संघ (सीएबीआई) के अध्यक्ष महंतेश जीके ने कहा कि उनका संघ जल्द से जल्द भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से मान्यता चाहता है।

महंतेश ने प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दुनिया भर के कई दृष्टिहीन क्रिकेट संघों को उनके देशों में मान्यता मिल चुकी है लेकिन भारत में अब तक ऐसा नहीं हो सका है।

सीएबीआई

सीएबीआई अध्यक्ष महंतेश जीके ने मान्यता के लिए लगायी गुहार 

महंतेश ने कहा कि हम दूसरे खेल संघों की बराबरी में खड़ा होना चाहते हैं। हम यह मान्यता अधिकार के साथ मांग रहे हैं क्योंकि हमारी टीम लगातार अच्छा प्रदर्शन करती रही है और यह मौजूदा टी-20 विश्व चैम्पियन भी है। मैं बीसीसीआई से अनुरोध करूंगा कि वह हमें मान्यता देने की कार्यवाही जल्द पूरी करे, जिससे हम और अधिक उमंग तथा उत्साह से काम कर सकें।

सीएबीआई अभी समर्थनन ट्रस्ट ऑफ डिस्एबल्स का एक हिस्सा है। इसे विराट कोहली, गौतम गम्भीर, केएल राहुल, उमेश यादव, अजिंक्य रहाणे और दिलीप वेंगसरकर जैसे कई पूर्व तथा मौजूदा क्रिकेट खिलाड़ियों का समर्थन प्राप्त है। इन खिलाड़ियों ने 30 जनवरी से शुरू हो रहे टी-20 विश्व कप के लिए टीम की हौसलाअफजाई भी की है।

महंतेश ने कहा कि हमारे लिए यह गर्व की बात है कि हमारे पूर्व कप्तान शेखर नाइक को पद्मश्री से नवाजा गया है। हमें सरकार से समर्थन मिल रहा है और हम आगे भी समर्थन की आस रखते हैं। साथ ही हम कारपोरेट जगत से भी आग्रह करेंगे कि वह हमें समर्थन और प्यार देता रहे। हम उन सभी विक्लांग खिलाड़ियों को दिशा देना चाहते हैं, जो क्रिकेट में अपना करियर बनाना चाहते हैं।

भारत के कई शहरो में आयोजित होने जा रहे 10 देशों के टी-20 विश्व कप को कर्नाटक, तेलंगाना की सरकारों के अलावा भारतीय खेल प्राधिकरण, खेल मंत्रालय, इंड्सइंड बैंक, एसबीआई, स्टार स्पोर्ट्स, ओएनजीसी, ब्ल्यू वोडा, बैंक ऑफ बड़ौदा, कोका कोला, पीवीआर सहित कई अन्य कम्पनियों और संगठनों का समर्थन प्राप्त है।

loading...
शेयर करें