सीपीएमटी काउंसलिंग छह जुलाई से

लखनऊ। कंबाइंड प्री-मेडिकल टेस्ट (सीपीएमटी) का विस्तृत कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने विस्तृत परीक्षा कार्यक्रम जारी किया। इसके मुताबिक 17 मई को प्रवेश परीक्षा होगी और एक जून को परिणाम घोषित किया जाएगा। पहली काउंसलिंग छह जुलाई से 15 जुलाई के बीच होगी। 22 जुलाई तक पहले राउंड के चयनित अभ्यर्थियों को कॉलेज में जॉइन करना होगा। अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद सीपीएमटी-2016 करा रहा है।

सीपीएमटी आवेदन के लिए 10 मार्च से ऑनलाइन पंजीकरण

सीपीएमटी के तहत एमबीबीएस की 1740 सीटों के लिए दाखिले होते हैं। इसके अलावा बीडीएस के भी दाखिले इसी से होते हैं। सीपीएमटी के आवेदन पत्र भरने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण 10 मार्च से 12 अप्रैल के बीच होंगे। 11 मार्च से 13 अप्रैल के बीच अभ्यर्थी फीस जमा कर सकेंगे। 15 अप्रैल तक ऑनलाइन आवेदन पत्र भरे जा सकेंगे। अभ्यर्थी अपने प्रवेश पत्र 11 मई से 16 मई के बीच ऑनलाइन डाउनलोड कर सकेंगे। 17 मई को प्रवेश परीक्षा के बाद एक जून को परिणाम घोषित हो जाएगा। तीन व चार जून को अभ्यर्थी स्क्रूटनी के लिए आवेदन कर सकते हैं। निशक्त अभ्यर्थियों के परीक्षण के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन भी 15 जून तक हो जाएगा।
सीपीएमटी की दूसरे चरण की काउंसलिंग 10 से 22 अगस्त के बीच होगी। इन्हें 28 अगस्त तक अपने-अपने कॉलेजों में प्रवेश लेना होगा। यूं तो शैक्षिक सत्र की औपचारिक शुरुआत एक अगस्त से होगी लेकिन दूसरे चरण की काउंसलिंग के बाद बची हुई सीटों के लिए मॉपअप राउंड 31 अगस्त तक चलेगा। इसके बाद तीसरे चरण की काउंसलिंग 28 सितंबर से पहले करानी होगी। इन्हें 30 सितंबर तक दाखिला लेना होगा। इसके बाद भी यदि कोई सीट खाली रह जाती है तो उसे 30 अक्टूबर तक भर लिया जाएगा।
रखी जाएगी पैनी नजर

अंगूठे के निशान भी लिए जाएंगे

सीपीएमटी के समय अभ्यर्थियों की वीडियोग्राफी कराई जाएगी। प्रवेश परीक्षा के दिन अभ्यर्थियों के अंगूठे के निशान भी लिए जाएंगे। ये निशान काउंसलिंग के समय मिलाए जाएंगे। मुन्ना भाइयों से बचने के लिए सरकार यह कदम उठाएगी। साथ ही प्रार्थनापत्र में चस्पा फोटो व परीक्षा के समय प्रस्तुत फोटो एक ही होनी चाहिए। विश्वविद्यालय को इसका पूरा रिकॉर्ड काउंसलिंग बोर्ड के चेयरमैन यानी महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा को उपलब्ध कराना होगा। इसी के जरिये काउंसलिंग के समय अभिलेखों का मिलान किया जाएगा। यदि किसी अभ्यर्थी के फिंगर प्रिंट या फिर अभिलेखों में भिन्नता पाई गई तो उसके खिलाफ प्राथमिकी लिखाई जाएगी।

यहां हैं एमबीबीएस की सीटें इतनी सीटें

किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ250
गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज, कानपुर190
सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज, आगरा150
मोती लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, इलाहाबाद150
लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज, मेरठ 150
महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज, झांसी100
बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज, गोरखपुर100
यूपी ग्रामीण आयुर्विज्ञान व अनुसंधान संस्थान, सैफई150
राजकीय एलोपैथिक मेडिकल कॉलेज, अंबेडकरनगर100
राजकीय मेडिकल कॉलेज, कन्नौज100
राजकीय मेडिकल कॉलेज, जालौन100
राजकीय मेडिकल कॉलेज, आजमगढ़100
राजकीय मेडिकल कॉलेज, सहारनपुर100
एक अगस्त से शुरू हो जाएगा नया शैक्षिक सत्र

Related Articles

Leave a Reply