अपनी बहादुरी दिखाकर जिसने दर्जनों की बचायी जान, वही आज सड़क पर सोने को मजबूर

0

नई दिल्ली। दिल्ली में 13सितंबर साल 2008 में हुए सीरियल ब्लास्ट के बारे में तो हर कोई जनता होगा। उस ब्लास्ट में एक 12 साल के बच्चे ने अपनी बहादुरी दिखाते हुए दर्जनों लोगों की जान बचायी थी। उसका नाम राहुल चव्हाण है। राहुल के इस साहस के किस्से हर तरफ फैले हुए थे। इसके लिए उसे राष्ट्रपति ने गैलेंट्री पुरस्कार से भी नवाजा था, साथ ही दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार ने अच्छी शिक्षा, नौकरी, घर देने का वादा भी किया था।

सीरियल ब्लास्ट

सीरियल ब्लास्ट में राहुल की बहादुरी से खुश होकर घर देने का वादा किया

साल 2009 में राहुल ने अपने हाथों से एक तस्वीर बनाकर उपराष्ट्रपति को भेंट की थी। उस समय उपराष्ट्रपति ने तस्वीर की सराहना करते हुए घर दिलाने का विश्वास भी जताया था। राहुल चव्हाण आज पूरे 9 साल बाद 21 वर्ष का हो चुका है। आज भी वो और उसका 15 से 20 लोगों का पूरा परिवार कनाट प्लेस के फुटपाथ पर सोता है।

राहुल ने एक प्रतिष्ठित पोर्टल से अपनी कहानी बयां की उसने बताया कि मेरे मां-बाप नहीं हैं। मुझे मेरे नाना बजरंग काले ने पाल-पोस के बड़ा किया है। जब दिल्ली में सीरियल ब्लास्ट हुआ था उस समय की बात मैं अब क्या कहूं…. मुझे राष्ट्रपति ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया, उपराष्ट्रपति ने घर दिलाने का वादा किया। लेकिन सच ये है कि इतने बड़े-बड़े वादे करने के बाद भी आज तक कोई अफसर या नेता झांकने तक नहीं आया।

मुझे बचपन बचाओ आंदोलन और सलाम बालक ट्रस्ट ने 12वीं तक पढ़ाया। इसके आगे की पढाई मेरी कैसे होगी ये काफी चिंता वाली बात है। जब मेरी बहादुरी को देश ने सराहा तो मेरे भी मन में देश के प्रति कुछ करने की इच्छा जाहिर हुई। पढ़ाई पूरी होने के बाद पुलिस की नौकरी ही टार्गेट है, लेकिन माली हालत ऐसी है कि मंजिल मिल जाए। अब तो ये सपना टूटता हुआ नजर आ रहा है।

पिछले नौ साल से मैं सरकारी मकान के लिए दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार के नेताओं को ज्ञापन दे रहा हूं। लेकिन कोई सुनने वाला नहीं नतीजा सामने है। इतना ही नहीं मैंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मिलने की पूरी कोशिश की लेकिन वो नहीं मिले। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले से भी मिलने का मेरा प्रयास असफल रहा। नाना-नानी और तीन मामा-मामी और उनके बच्चों समेत करीब 15-20 लोगों का मेरा पूरा परिवार छोटी-मोटी चीजें बेच कर अपना गुजारा करते हैं।

loading...
शेयर करें