सेक्स एजुकेशन के नाम पर बच्चों को दी जा रही गलत शिक्षा, सुनकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

0

नई दिल्ली। एक तरफ हम लड़कियों को निडर होकर अपनी मर्जी से जीने की बात करते हैं और दूसरी ओर हम उन्हें ये शिक्षा देते हैं कि लड़कों से दूर रहना चाहिए और भड़कीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उनकी इज्जत को खतरा है और इसके लिए जिम्मेदार वो खुद होंगी।

लड़कों से दूर

दरअसल, आठवीं क्लास की विज्ञान की किताब में एक चैप्टर है जिसमें लिखा है, ‘जब आप ऑटो, बस या फिर ट्रेन से स्कूल जा रहे हों तो लड़कों से दूरी बनाकर रखें’, ‘ध्यान रखें आप किस तरह बैठते हैं’, ‘भड़काऊ कपड़े न पहनें हों..’

विज्ञान की किताब में बाल यौन उत्पीड़न से बचाव के लिए ये तरीके बताए गए हैं। आठवीं क्लास को बच्चों को अगर स्कूल में ये पढ़ाया जाएगा ये भला देश की लड़कियां खुद को सुरक्षित कैसे महसूस करेंगी। इन बातों से ये झलक रहा है कि अगर लड़कियां ऐसा नहीं करती हैं और उनके साथ कुछ गलत होता है तो उसके लिए वो खुद जिम्मेदार हैं।

एससीईआरटी का कहना है कि किताब को 12 साल पहले मंजूरी मिली थी। इसके अलावा इस चैप्टर को रिवाइज करने की बात भी कही जा रही है। सरकार का कहना है कि अब बेहतर सेक्स एजुकेशन को क्लास 6 से ही शामिल किया जाएगा।

 

loading...
शेयर करें