टारगेट पूरा ना कर पाने पर करेले खाने की मिलती है सजा

0

बीजिंग। दुनिया भर में कितनी ही कम्पनियां है जिनके अपने-अपने नियम और कायदे हैं। बहुत सी कम्पनी सेल्स टारगेट को पूरा करने के लिए इम्प्लॉइज रखती हैं जिनकी अपनी शर्ते होती हैं। अगर इम्प्लॉइज कपंनी के टारगेट को पूरा करते है तो कपंनी अपने रूल्स के अनुसार उन्हें बोनस देती है और अगर टारगेट पूरा नहीं होता तो कम्पनी उनको टॉर्चर करके बुरा हाल करती है।सेल्स टारगेट

सेल्स टारगेट पूरा न कर पाने पर 40  इम्प्लॉइज को जबरदस्ती खिलाये करेले

चीन में पिछले कुछ सालों से सेल्स टारगेट को पूरा न कर पाने के बाद इम्प्लॉइज को टॉर्चर करने की बहुत अजीबो-गरीब मामले सामने आ रहे हैं। चीन की कम्पनियां अपने सेल्स इम्प्लॉइज का बहुत बुरा हाल करती हैं। ऐसा ही एक मामला शोंगकिंग प्रॉविन्स की लेशेंग डेकोरेशन्स कॉर्पोरेशन का सामने आया हैं जहां टारगेट पूरा न करने पर 40 इम्प्लॉइज को कच्चा करेला खाने की सजा दी गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह जानकरी वहां के इम्प्लॉइज ने दी है। उन्होंने ने बताया की जो लोग कड़वे करेले नहीं खा पाए उन्हें फिर से करेले खिलाए गए। ये घटना 16 जून की है,  जिसकी फोटोज वायरल होने के साथ-साथ सोशल नेटवर्किंग साइट वीचैट पर शेयर की जा रही हैं।

कंपनी के एक इम्प्लोय ने बताया कि सजा देने के लिए मैनेजमेंट ने काफी बड़े और बहुत ज्यादा कड़वे करेले मंगवाए थे। इम्प्लॉइज को कंपनी फिजिकल टास्क के जरिए भी सजा देती है । इसमें पुश-अप्स और दौड़ शामिल है। 50% से ज्यादा नए इम्प्लॉइज ऐसी सजा मिलने के कारण कंपनी छोड़कर चले जाते हैं।

पहले भी छड़ी से पीटने का मामला आ चुका है सामने

इम्प्लॉइज को इस तरह से  टॉर्चर करने की यह घटना चीन में  पहली बार नहीं हुई है, इससे पहले भी चीन की कम्पनियां ऐसा कर चुकी हैं।बीते दिनों में एक वीडियो काफी प्रचलित हुआ था, जिसमे इम्प्लॉइज की ख़राब परफॉर्मेंस पर बॉस ने उन्हें छड़ी से पीटा था।

 

loading...
शेयर करें