सोनप्रयाग में बनेगा प्रदेश का सबसे लंबा और ऊंचा एलिवेटेड कॉरिडोर

0

देहरादून। उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद से मोदी सरकार वहां के लोगों को रिझाने की कोशिश में लगी हुई है। प्रदेश में चारधाम यात्रा के दौरान केदारनाथ जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों को अब सोनप्रयाग में जाम का सामना करना पड़ सकता है।सोनप्रयाग

सोनप्रयाग में बनेगा सौ करोड़ वाला एलिवेटेड कॉरिडोर

सोनप्रयाग में एलिवेटेड कॉरिडोर बनने जा रहा है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) सोनप्रयाग उत्तराखंड का सबसे लंबा और ऊंचा एलिवेटेड कॉरिडोर होगा। सौ करोड़ की लागत से बनने वाले एलिवेटेड कॉरिडोर के निर्माण की जिम्मेदारी यूक्रेन की निजी कंपनी को सौंपी गई है। एलिवेटेड कॉरिडोर का निर्माण दो साल पहले किया जाना था।

120 करोड़ की लागत से इसके निर्माण का प्रस्ताव भी तैयार कर दिया गया है, लेकिन कुछ कारणों से निर्माण कार्य टल गया। अब इसके नए सिरे से निर्माण की तैयारी है। यूक्रेन की एक निजी कंपनी को निर्माण का ठेका दे दिया गया है। कंपनी ने डिजाइन तैयार कर लिया है। कंपनी की ओर से तैयार किए गए डिजाइन की वजह से इसकी निर्माण लागत 120 करोड़ से घटकर 100 करोड़ हो गई है। एनएचएआई की ओर से कंपनी को टेंडर भी जारी कर दिया गया है।

चारधाम यात्रा के दौरान सोनप्रयाग में जबरदस्त जाम लग जाता है यह एलिवेटेड कॉरिडोर बनने के बाद वहां जाम नहीं लगेगा और इससे जिला प्रशासन से जुड़े अफसरों को भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

एनएचएआई के परियोजना निदेशक पीके मौर्या के मुताबिक टू लेने वाले एक किलोमीटर लंबे कॉरिडोर का निर्माण पूरा होने के बाद तीर्थयात्री सोनप्रयाग में प्रवेश किए बिना ही आगे जा सकेंगे। यह राज्य का पहला एलिवेटेड कॉरिडोर है जो न सिर्फ सबसे लंबा, बल्कि सबसे ऊंचा होगा। बताया जा रहा है कि इसका कार्य शुरू हो गया है।

शेयर करें