लगातार तीसरे दिन सोने में आई तेजी

0

नई दिल्ली। सोने-चांदी में लगातार तीसरे दिन तेजी दर्ज की गई। गुरुवार को सोना करीब 180 रुपए बढ़कर एक माह के ऊपरी स्तर पर आ गया। चांदी भी आज 350 रुपए बढ़कर 40600 रुपए प्रति किलो हो गया। दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 180 रुपए की बढ़त के साथ 28,730 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। यह स्तर एक महीने का उच्चतम स्तर है। घरेलू स्तर पर बढ़ी डिमांड और मजोबूत ग्लोबल संकेत के चलते सोने में उछाल देखने को मिल रही है। वहीं चांदी 350 रुपए चढ़कर 40,600 रुपए प्रति किलो पहुंच गई। चांदी में आई तेजी के पीछे इंडस्ट्रीयल मांग में इजाफा और सिक्का बनाने वालों की खरीदारी को माना जा रहा है।
निवेश के लिए सोने की मांग बढ़ी
सर्राफा कारोबारियों ने बताया कि सोने को लेकर सेंटिमेंट में बदलाव आया है। यहीं वजह है की कीमतें एक महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई। उन्होंने कहा कि ग्लोबल स्तर पर सुरक्षित निवेश के लिए सोने की मांग बढ़ी है। दरअसल अमेरिकी डॉलर प्रमुख करेंसी के मुकाबले 14 साल के ऊपरी स्तर से फिसल गया है।
सोने में लगातार तीसरे दिन तेजी
सिंगापुर में सोना 0.90 फीसदी की उछाल के साथ 1173.51 डॉलर प्रति हो गया है। गुरुवार को 99.9 और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने में 180 रुपए की तेजी दर्ज। तेजी के बाद भाव क्रमश: 28,730 और 28,580 रुपए प्रति 10 ग्राम। पिछले दो दिन में सोना 250 रुपए महंगा हुआ है। गिन्नी 200 रुपए की तेजी के साथ 24,200 रुपए प्रति 8 ग्राम पर बंद हुए।
चांदी पहुंची 40,500 के पार
दिल्ली सर्राफा बाजार में चांदी आज 350 रुपए महंगी हुई। इसकी वजह से चांदी तैयार की कीमत 40,600 रुपए प्रति किलो पहुंच गई। साप्ताहिक डिलीवरी की कीमत 360 रुपए की तेजी के साथ 40,580 रुपए प्रति किलो पर बंद हुए। चांदी सिक्कों की कीमत लिवाल 71,000 रुपए और बिकवाल 72,000 रुपए प्रति सैकड़ा पर अपरिवर्तित बंद हुई।
सोने में मिल सकता है अच्छा रिटर्न
कमोडिटी एक्सपट्र्स और बुलियन ट्रेडर्स का कहना है कि इससे इंडिया में गोल्ड की डिमांड में तेजी आ सकती है। एक्सपट्र्स को लगता है कि सरकार को सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स की अगली किस्त फरवरी-मार्च में उतारनी चाहिए ताकि निवेशक अपनी गोल्ड होल्डिंग्स को बढ़ा सकें। कोटक महिंद्रा बैंक के ग्लोबल ट्रांजैक्शंस (बैंकिंग एंड प्रेशियस मेटल्स) के बिजनस हेड शेखर भंडारी ने कहा कि भारतीय संदर्भ में गोल्ड और आकर्षक बनने जा रहा है। 2016 में इंडिया में डिमांड में जोरदार गिरावट रही। अगले तीन या छह महीने में हमें डिमांड बढ़ती नजर आ सकती है।

loading...
शेयर करें