स्क्वाड्रन लीडर बनकर अदिति ने किया राज्य का नाम रोशन

ऋषिकेश। कहते हैं बेटियां कभी बेटों से कम नहीं होती चाहे बात किसी भी फील्ड की हो। अगर बेटियां चाहे तो किसी भी क्षेत्र में अपना नाम रोशन कर सकती हैं। ऐसी ही एक बेटी ऋषिकेश की है जिसने अपने जज्बे और जुनून के बलबूते भारतीय सेना में स्क्वाड्रन लीडर बन कर दिखाया है।

स्क्वाड्रन लीडर

स्क्वाड्रन लीडर ने वायु सेना में भर्ती होकर रचा इतिहास

देहरादून में विंग कमांडर (सेवानिवृत्त) अनुपमा जोशी ने तीनों सेनाओं में महिलाओं के लिए स्थायी कमीशन की राह खोली थी। उनके बाद अब 27 वर्षीय अदिति ने वायु सेना में भर्ती होकर राज्य का नाम रोशन कर दिया।

अदिति ने इंटरमीडियट तक की पढाई ऋषिकेश से की। इसके बाद इसके बाद चंडीगढ़ के इंडो ग्लोबल कॉलेज से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बीटेक पास किया। पिता गुलशन राय ऋषिकेश में कपड़े के व्यापारी हैं। उन्होंने बताया कि पांच जुलाई को अदिति को प्रोन्नति की सूचना मिली। अदिति को बचपन से ही उसे फौजी अनुशासन और वर्दी लुभाती थी। होनहार थी ही। इंटरमीडियट परीक्षा में वह शहर की टॉपर भी थी।

वर्ष 2011 में उसने भारतीय वायु सेना में कमीशन लिया। अभी वह पठानकोट में तैनात हैं। अदिति की छोटी बहन पांशुला कानून की पढ़ाई कर रही है। बेटी की सफलता से उत्साहित मां वंदना राय कहती हैं ‘लोगों को यह समझना होगा बेटियां बेटों से किसी मायने में कम नहीं होती। अदिति ने भी साबित कर दिया है।’

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button